नई दिल्ली, जेएनएन। भारत के मध्य क्रम में भरोसेमंद बल्लेबाज चेतेश्वर पुजारा का मानना है कि श्रीलंका के खिलाफ यहां तीसरे और अंतिम टेस्ट में भारत के क्षेत्ररक्षकों का प्रदर्शन अच्छा नहीं था, लेकिन उन्होंने कहा कि भारतीय टीम इस विभाग में कड़ी मेहनत कर रही है। भारत ने श्रीलंका की पहली पारी में शतक जड़ने वाले मैथ्यूज के ही कम से कम चार कैच छोड़े, जबकि दूसरी पारी में मैच ड्रॉ कराने वाले रोशन सिल्वा और निरोशन डिकवेला को भी जीवनदान दिया।

पुजारा ने कहा कि ईमानदारी से कहूं तो हमारा क्षेत्ररक्षण अच्छा नहीं था। मैं इसे मानता हूं, लेकिन कभी-कभी खिलाड़ियों को चोटें लग जाती हैं। मुरली विजय स्लिप में क्षेत्ररक्षण करते हैं। जब उन्हें चोट लगी थी तो वह लगभग छह महीने तक नहीं खेल पाए। हमें उनकी जगह किसी और को लाना था। ऐसे मौके भी आए कि बल्लेबाज चोटिल हो गए और हमें दूसरे खिलाड़ी को लाना पड़ा लेकिन, हमने काफी कैच नहीं लपके और हम विकल्पों पर विचार कर रहे हैं। निश्चित तौर पर इसमें सुधार होगा, क्योंकि कुल मिलाकर क्षेत्ररक्षण इकाई के रूप में भारत में सुधार हुआ है।

पुजारा ने आगे कहा हमारी नजरें स्लिप में क्षेत्ररक्षण में सुधार करने पर टिकी हैं। मैं मानता हूं कि हमने कैच छोड़े हैं, लेकिन मुझे यह नहीं पता कि तकनीकी रूप से कमी कहां है, लेकिन हम क्षेत्ररक्षण में काफी मेहनत कर रहे हैं, क्योंकि हमें पता है कि स्लिप क्षेत्ररक्षण काफी महत्वपूर्ण है। स्लिप में खड़े होने वाले खिलाड़ी प्रतिदिन 50 से 100 कैच लपकने का अभ्यास कर रहे हैं। हम सुधार की कोशिश कर रहे हैं और निश्चित तौर पर नतीजे मिलेंगे।

दक्षिण अफ्रीका दौरे को देखते हुए पुजारा ने स्लिप में कैच लपकने को लेकर काफी चर्चा की। उन्होंने कहा कि हमने इस बारे में बात की है और कुछ खिलाड़ियों को यह जिम्मेदारी सौंपी है। हम विदेशी सीरीज के लिए खिलाड़ियों को तैयार करेंगे जो स्लिप में खड़े होंगे। हमने इस बारे में बात की है। दक्षिण अफ्रीका पहुंचने पर भी हम इस बारे में बात करेंगे। भारतीय स्पिनर रविचंद्रन अश्विन और रवींद्र जडेजा अंतिम दिन टीम को सिर्फ दो सफलता दिला पाए। पुजारा ने उनका बचाव करते हुए कहा कि उन्होंने जितने विकेट लिए हैं वे शानदार हैं।

क्रिकेट की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

अन्य खेलों की खबरों के लिए यहां क्लिक करें

Posted By: Bharat Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप