साउथैंप्टन, पीटीआइ। ICC World Test Championship: भारतीय कप्तान विराट कोहली ने गुरुवार को कहा कि सिर्फ एक टेस्ट मैच उनकी टीम का असली प्रतिबिंब पेश नहीं करता, फिर भले ही यह यहां न्यूजीलैंड के खिलाफ डब्ल्यूटीसी फाइनल ही क्यों ना हो और वह इसे एक अन्य मैच की तरह ही ले रहे हैं।

भारतीय कप्तान और उनकी टीम के लिए डब्ल्यूटीसी फाइनल टेस्ट पदार्पण की तरह है, जिससे युवा खिलाड़ी टीम में जगह बनाने की कोशिश कर रहे हैं। कोहली ने न्यूजीलैंड के खिलाफ फाइनल की पूर्व संध्या पर कहा, "पांच दिन का एक मैच। इससे कुछ नहीं पता चलने वाला और जो खेल को समझते हैं उन्हें पता है कि पिछले चार या पांच साल में क्या हुआ है। अगर हम जीतते हैं तो क्रिकेट नहीं रुकने वाला और अगर हम हारते हैं तो भी क्रिकेट नहीं रुकने वाला। हम उत्कृष्टता हासिल करने के लिए खेल रहे हैं और समझते हैं कि टीम के रूप में हम क्या हैं।"

यह पूछने पर कि क्या यह उनके करियर का सबसे बड़ा क्रिकेट मुकाबला है तो कोहली ने कहा, "नहीं। यह एक अन्य टेस्ट मैच है। ये सारी चीजें (डब्ल्यूटीसी फाइनल) बाहर से अच्छी लगती हैं। कोई एक मुकाबला करो या मरो का मुकाबला नहीं बन सकता। यह शानदार लम्हा है, लेकिन क्रिकेट भी जीवन की तरह आगे बढ़ता है। इस मौके का लुत्फ उठाने की जरूरत है और टीम में जगह बनाने की कोशिश में जुटे युवा खिलाड़ियों के रूप में खेले गए पहले टेस्ट से अधिक महत्वपूर्ण नहीं है। हमें अपनी क्षमताओं पर भरोसा करने की जरूरत है। यह बल्ले और गेंद के बीच मुकाबला है।"

कोरोना के कारण भारतीय टीम घर में कुछ सीरीज नहीं खेल पाई और इसका असर डब्ल्यूटीसी अंक प्रणाली पर भी पड़ा। कोहली ने कहा कि अगर आप घर पर बैठे हैं और अचानक से पता चल जाए कि नियम बदल गए हैं तो आप दुविधा में आ जाएंगे कि अब क्या करना है। कोरोना के कारण हम घर में कुछ सीरीज तक नहीं खेल पाए थे।

Edited By: Vikash Gaur