नई दिल्ली, प्रेट्र। दिग्गज स्पिनर अनिल कुंबले (Anil Kumble) ने कहा कि उनके लिए कोचिंग के पिछले अनुभवों की सबसे बड़ी सीख खिलाडि़यों पर से दबाव कम करना और उन्हें सहज रखने में मदद करना थी। कुंबले ने चैंपियंस ट्रॉफी 2017 के फाइनल के बाद कप्तान विराट कोहली के साथ खराब संबंधों के कारण भारतीय कोच पद से त्यागपत्र दे दिया था। हालांकि टीम ने उनके रहते हुए अच्छा प्रदर्शन किया था।

48 वर्षीय पूर्व भारतीय कप्तान कुंबले फिर से कोचिंग की जिम्मेदारी संभाल रहे हैं और इस बार वह आइपीएल फ्रेंचाइजी किंग्स इलेवन पंजाब से क्रिकेट संचालन निदेशक के रूप में जुड़े हैं। कुंबले ने कहा, 'आरसीबी और मुंबई इंडियंस के साथ कोचिंग का अनुभव शानदार रहा था। इससे निश्चित तौर पर (कोच के रूप में) मदद मिलती है। आखिर में यह सब क्रिकेट को लेकर है। जिस क्षण आप परिणाम, जीत, ट्रॉफी को महत्व देना शुरू करते तो आप खिलाडि़यों पर अधिक दबाव बना देते हो इसलिए मैंने यह सीख ली कि दबाव मुक्त रहो और खिलाडि़यों को सहज रखने में मदद करो। जब वे सहज होकर खेलते हैं तो अच्छा प्रदर्शन करते हैं।'

किंग्स इलेवन पंजाब (Kings Eleven Punjab) कभी आइपीएल खिताब नहीं जीत पाया है और कुंबले खिताब का सूखा खत्म करने के उद्देश्य से टीम से जुड़े हैं। वह टीम में अधिक अनुभवी खिलाडि़यों को रखना चाहते हैं और दिसंबर में होने वाली आइपीएल नीलामी के लिए जल्द ही रणनीति तैयार करेंगे। उन्होंने कहा, 'आप पिछले अनुभवों से सीखते हो जो एक खिलाड़ी और कोच के रूप में आपके पास होता है लेकिन आइपीएल 'रोलरकॉस्टर' की तरह है। आपको संयम रखने की जरूरत होती है और फिर अपने खिलाडि़यों का साथ देना होता है।'

किंग्स इलेवन पंजाब ने हाल में रविचंद्रन अश्विन (R Ahswin) को टीम से जोड़े रखने का फैसला किया, लेकिन कुंबले ने कहा कि यह अभी तय नहीं है कि यह ऑफ स्पिनर फिर से कप्तान बनेगा या नहीं। उन्होंने कहा, 'हमने अभी फैसला नहीं किया है। कुछ फैसले करने जरूरी होते हैं, लेकिन अभी हमें इस पर निर्णय लेने की जरूरत नहीं है। आइपीएल अभी पांच महीने बाद होना है। अभी नीलामी होगी और हम वहां से अपनी टीम तैयार करना शुरू करेंगे। अश्विन के दो साल शानदार रहे, लेकिन हम अनुकूल परिणाम हासिल नहीं कर पाए। हालांकि हमने अभी तक फैसला नहीं किया है कि कौन कप्तान होगा।'

 

Posted By: Sanjay Savern

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप