नई दिल्ली, प्रेट्र। टीम इंडिया के पूर्व स्पिनर अनिल कुंबले भारतीय क्रिकेट टीम के मुख्य कोच रह चुके हैं, लेकिन उनका कार्यकाल विवादास्पद रहा। हालांकि उन्हें अपने कार्यकाल को लेकर कोई पछतावा नहीं है, लेकिन उनका ये मानना है कि इसका अंत बेहतर या सुखद हो सकता था। 

कुंबले टीम इंडिया के कप्तान विराट कोहली से मतभेद के बाद 2017 में चैंपियंस ट्रॉफी के बाद कोच के पद से हट गये थे। अब इस पूर्व स्पिनर ने ऑनलाइन सत्र में जिम्बाब्वे के पूर्व क्रिकेटर पॉमी मबांग्वा से कहा कि हमने उस एक साल के समय में काफी अच्छा किया था। मैं सचमुच काफी खुश था कि इसमें कुछ योगदान किये गये थे और इसमें कोई पछतावा नहीं है। मैं वहां से भी आगे बढ़कर खुश था।

उन्होंने कहा कि मैं जानता हूं कि अंत बेहतर हो सकता था लेकिन फिर भी ठीक है। कोच के तौर पर आप महसूस करते हो कि आगे बढ़ने का समय कब है, कोच ही होता है जिसे आगे बढ़ने की जरूरत होती है। मैं सचमुच काफी खुश था, मैंने उस एक साल में काफी अहम भूमिका निभायी थी। अनिल कुंबले का बतौर कोच एक साल काफी सफल रहा था जिसमें टीम 2017 में चैंपियंस ट्रॉफी के फाइनल में पहुंची थी और साथ ही टेस्ट टीम के तौर पर भी काफी मजबूत हुई थी, जिसने उनके कार्यकाल के दौरान 17 में से केवल एक ही टेस्ट गंवाया था।

उन्होंने कहा कि मैं बहुत खुश था कि मैंने भारतीय कोच की भूमिका को लिया था। मैंने भारतीय टीम के साथ जो एक साल बिताया था, वह सचमुच शानदार था।  भारत के लिए 132 टेस्ट में 619 विकेट और 271 वनडे में 337 विकेट लेने वाले कुंबले ने कहा कि बेहतरीन खिलाड़ियों के साथ और भारतीय ड्रेसिंग रूम का हिस्सा बनना एक शानदार अहसास है।  अनिल कुंबले इस समय इंडियन प्रीमियर लीग में किंग्स इलेवन पंजाब फ्रेंचाइजी के मुख्य कोच हैं। इस साल आइपीएल का आयोजन यूएई में किया जाएगा। 

Aus-vs-Ind

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस