क्राइस्टचर्च, प्रेट्र। न्यूजीलैंड के खिलाफ पहले टेस्ट मैच में कुछ भारतीय बल्लेबाजों को छोड़कर ज्यादातर बल्लेबाज न्यूजीलैंड की तेज गेंदबाजी आक्रमण के सामने धराशाई हो गए थे। कीवी टीम के तेज गेंदबाज टिम साउथी, ट्रेंट बोल्ट और काइल जैमीसन भारतीय बल्लेबाजों पर कहर बनकर बरसे थे और टीम इंडिया के ज्यादातर बल्लेबाज दिशाहीन लगे थे। भारतीय बल्लेबाजों में कप्तान विराट कोहली, चेतेश्वर पुजारा, पृथ्वी शॉ, हनुमा विहारी ने काफी निराश किया था और टीम की हार में भारतीय बल्लेबाजों का रन नहीं बना पाना सबसे मुख्य कारण रहा। 

वेलिंग्टन के बाद अब भारत को क्राइस्टचर्च के हेगली ओवल मैदान पर दूसरा मैच खेलना हैं जहां पर भारतीय टीम को हराने के लिए पिच पर घास छोड़ा गया है जिससे की तेज गेंदबाजों को पूरी मदद मिल सके। ऐसे में भारतीय टीम के उप-कप्तान अजिंक्य रहाणे ने अपने टीम के बल्लेबाजों का मनोबल बढ़ाने के लिए कुछ टिप्स दिए हैं। उन्होंने कहा है कि दूसरे टेस्ट मैच में मेजबान टीम के तेज गेंदबाजों का सामना मजबूत इरादों के साथ करें और उस कोण के उठती गेंदों को समझें जो वेलिंग्टन टेस्ट में टीम इंडिया की हार की वजह थी। 

रहाणे को उम्मीद है कि उनकी टीम दूसरे टेस्ट में वापसी करेगी और उन्होंने कहा कि कीवी टीम के तेज गेंदबाजों टिम साउथी, ट्रेंट बोल्ट व जैमीसन ने क्रीज के कोण का इस्तेमाल करते हुए शॉर्ट पिच गेंदें फेंकी थी जिसे भारतीय बल्लेबाज नहीं समझ पाए थे। रहाणे ने कहा कि मुझे लगता है कि वेलिंग्टन में उन्होंने उस कोण का बहुत अच्छा इस्तेमाल किया। वो क्रीज के बाहरी कोण से बीच में गेंदबाजी कर रहे थे साथ ही शॉर्ट पिच गेंद करते समय वे कोण बदल रहे थे। मेरा मानना है कि उनकी रणनीति पूरी तरह से साफ थी। मैं ये नहीं कह रहा कि हमें आक्रामक होना चाहिए, लेकिन मजबूत इरादे से हमें मदद मिलेगी। 

रहाणे ने कहा कि पहले टेस्ट में जो हुआ उसे हमें भूल जाना चाहिए और एक बल्लेबाज को तौर पर आप जो शॉट खेलना चाहते हैं खुद पर भरोसा रखकर उसे खेलें। मैं ये कहना चाहता हूं कि एक कोशिश करें और एक टीम के तौर पर हमने जो गलतियां की उससे सबक सीखें। अब हम उनकी रणनीति को ध्यान में रखकर आगे बढ़ेंगे और प्रैक्टिस करेंगे। 

वहीं पुजारा के बारे में रहाणे ने कहा कि वो अपनी तरफ से रन बनाने की कोशिश कर रहे थे और उनकी ध्यान रन बनाने की तरफ था, लेकिन साउथी, बोल्ट व अन्य तेज गेंदबाजों ने उन्हें ज्यादा मौका नहीं दिए। ये सभी बल्लेबाजों के साथ होता है। सब इस दौर से गुजरते हैं। आपको बता दें कि चेतेश्वर पुजारा ने पहले टेस्ट मैच की दूसरी पारी में 81 गेंदों पर 11 रन बनाए थे और उनकी खूब आलोचना हुई थी। 

 

Posted By: Sanjay Savern

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस