रायपुर। तेलीबांधा थाने के पास गाड़ियों के जांच के दौरान शहर के पुराने बिल्डर प्रकाश दावड़ा की बीएमडब्ल्यू कार से 45 लाख 46 हजार नकद मिले हैं। सूटकेस को नोटों से भरा देखकर हैरान पुलिस वालों ने पैसे जब्त किए और आयकर विभाग को सूचना दे दी। आनन-फानन में टीम भी पहुंच गई। अब पैसों की जांच की जा रही है। चौक पर जांच कर रहे जवानों ने गाड़ी की नंबर प्लेट में 3 अंक देखकर रोका था। संदेह के आधार पर जांच की गई। गाड़ी रोके जाने के बाद हालांकि बिल्डर ने अपना नाम बताया लेकिन जवानों ने नहीं सुनी।
ट्रैफिक और तेलीबांधा पुलिस के अफसरों ने उसी समय अफसरों को खबर दी। उनके निर्देश के बाद ही आयकर विभाग को सूचना भेजी गई। सूटकेस में 500 और 1000 के नोट हैं। सारे नोट पुराने हैं, जिन्हें चलन के बाहर किए जाने की घोषणा की जा चुकी है।

पुलिस ने बताया कि बिल्डर प्रकाश दावड़ा अपनी कार से शहर की ओर आ रहे थे। थाने के पास तैनात ट्रैफिक जवान ने गाड़ी रोकी। दावड़ा ने अपना परिचय भी दिया लेकिन सिपाही सूटकेस की जांच करने पर अड़ा रहा। उसने सूटकेस को कार से बाहर निकाला और खोलकर देखा तो उसमें 500 व हजार के नोट थे।
थाने में ले जाकर नोट की गिनती की गई। बाद में बिल्डर ने आयकर विभाग को पैसे के हिसाब से संबंधित कुछ दस्तावेज दिए है, जिसकी जांच की जा रही है। बिल्डर ने पुलिस को बताया है कि यह पैसा उनके कारोबार का है, जिसे वे लक्ष्मी सहकारी बैंक में जमा करने जा रहे थे। उनके पास पैसे का पूरा हिसाब है। आधा पैसा उनके कॉलेज का है।

घटना की सूचना मिलते ही दावड़ा परिवार के कई सदस्य भी थाने पहुंच गए।कई थानों में धोखाधड़ी का केस: पुलिस ने बताया कि दावड़ा बिल्डर के खिलाफ कई थानों में धोखाधड़ी का केस दर्ज है। मामलों की जांच चल रही है।कुछ मामलों में प्रकाश दावड़ा पर कोर्ट में केस चल रहा है। दावड़ा परिवार का कंस्ट्रक्शन के अलावा एजुकेशन का काम है। अभनपुर रोड में उनका कॉलेज है।

पढ़ें:छत्तीसगढ़ : नक्सलियों ने की कांग्रेसी नेता के भतीजे की गोली मारकर हत्या

Posted By: Bhupendra Singh