रायपुर, जगदलपुर। टंगिया ग्रुप लीडर सामनाथ बघेल की हत्या की घटना तथा प्रो नंदिनी सुंदर समेत अन्य लोगों के विरूद्घ एफआईआर दर्ज होने के बाद शनिवार को नक्सलियों द्वारा फेंके गए पर्चाे में कहा गया है कि नंदिनी सुंदर से उनके कोई संबध नहीं हैं।
ज्ञात हो कि बीते चार नवम्बर को नक्सलियों ने सामनाथ की घर से निकाल कर हत्या कर दी थी। इसके बाद उसकी पत्नी की शिकायत के आधार पर तोंगपाल पुलिस ने डीयू की प्रो नंदिनी सुंदर, जेएनयू की प्रो अर्चना प्रसाद, सीपीएम लीडर संजय पराते समेत अन्य लोगों के विरूद्घ अपराध दर्ज किया था।

शनिवार सुबह दरभा क्षेत्र के ग्राम कुमाकोलेंग में नक्सलियों द्वारा काफी संख्या में पर्चे फेंके गए हैं। दरभा डिवीजन कमेटी की ओर से जारी इन पर्चों में नक्सलियों ने उल्लेखित किया है कि टंगिया दलम के प्रमुख सामनाथ को पार्टी के विरूद्घ काम नहीं करने की समझाइश दी गई थी। वह नहीं माना इसलिए उसे मौत की सजा दी गई है। साथ ही यह भी कहा गया है कि नंदिनी सुंदर जून माह में क्षेत्र में अन्य लोगों के साथ जांच में आई थीं।

सामनाथ द्वारा नंदिनी को गिरफ्तार करने की शिकायत की गई थी। वहीं उसकी पत्नी ने भी उसकी हत्या में नंदिनी की शिकायत की है। नंदिनी सुंदर से हमारा किसी प्रकार का लेना--देना नहीं है। पर्चे में यह भी लिखा है कि पुलिस के लोग भी नौकरी के लिए आते हैं उनसे भी हमारी दुश्मनी नहीं है। नक्सलियों ने पार्टी विरोधियों को सामनाथ की तरह दंड देने की चेतावनी दी है। पर्चे फेंकने की जानकारी मिलने पर तोंगपाल पुलिस ने इलाके की गश्त कर पर्चे जब्त कर लिए हैं।

पढ़ें:जंगल सफारी में पर्यटकों को लुभा रहा मोदीवाला टाइगर

Posted By: Bhupendra Singh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप