धान के कटोरा के रूप में प्रख्यात रायपुर सन 2000 में मध्य प्रदेश से अलग होने के बाद जब छत्तीसगढ़ की राजधानी बना तो इस शहर ने कई पड़ाव देखे हैं। अपने 18 साल के सफर में यह शहर कई क्षेत्रों में उल्लेखनीय प्रगति कर चुका है। वहीं, कई क्षेत्र ऐसे हैं, जहां सुधार की जरूरत है। लोगों ने सर्वे में रायपुर को 3.20 का औसत स्कोर दिया और वह दस शहरों के पायदान में पांचवें नंबर काबिज है। यहां के लोग अभी क्षेत्र में और प्रगति की जरूरत महसूस कर रहे हैं।

यहां के नागरिकों ने माना कि रायपुर बिजली की आपूर्ति के मामले में बेहतर है। इसी वजह से 5 में से 3.88 अंक मिले हैं। वहीं, स्वास्थ्य सुविधाएं कितनी वहनीय हैं, इस बावत लोगों ने 2.52 अंक दिए हैं। ऐसे में लोगों ने अपनी राय में साफ किया है कि यहां स्वास्थ्य में सुधार की आवश्यकता है।

केपीएमजी की ओर से जारी इस रिपोर्ट में रायपुर को ओवरऑल 5 में से 3.2 अंक मिले हैं। रायपुर की अर्थव्यवस्था को लोगों ने 3.26 अंक दिए हैं। शिक्षा के लिए लोगों ने रायपुर को 3.27 अंक दिए हैं। वहीं, स्वास्थ्य सुविधाओं को सबसे ज्यादा 3.35 अंक दिए हैं। इसके उलट स्वास्थ्य सुविधाओं की वहनीयता भी एक अहम सवाल बनकर उभरा है, क्योंकि रायपुर को इसके लिए लोगों ने 2.52 अंक दिए हैं। हालांकि, स्वास्थ्य सुविधाओं और अस्पतालों की उपलब्धता शहर में बेहतर है। इसके लिए लोगों ने रायपुर को 3.77 अंक दिए हैं।

 

वहीं, अस्पतालों में मौजूद सुविधाओं और दवाओं की उपलब्धता के लिए रायपुर को 3.7 अंक मिले हैं। इन्फ्रास्ट्रक्चर के लिए रायपुर वासियों ने शहर को 3.12 अंक दिए हैं। सुरक्षा लोगों के लिए रायपुर में भी अहम मुद्दा रहा है, इसी कारण सुरक्षा के लिहाज से लोगों ने रायपुर को 5 में से 2.95 अंक दिए हैं। रायपुर के लिए जो पॉजिटिव बातें माय सिटी माय प्राइड अभियान के तहत लोगों के सवालों के जवाब के साथ सामने आई, उनमें खास है कि स्कूलों की उपलब्धता के बारे में रायपुर काफी बेहतर है। इस कारण छत्तीसगढ़ की राजधानी को 3.78 अंक मिले हैं। वहीं, सरकारी स्कूलों में अध्यापकों की उपलब्ध्ता के आधार पर इसे 3.51 अंक मिले हैं।

इन पर लोगों ने जताई चिंता

रिपोर्ट में सामने आया है स्वच्छता के लिहाज से लोग काफी चिंतित हैं। सीवेज और वेस्ट मैनेजमेंट पर लोगों का मानना है, इसकी यहां सुधार की जरूरत है। इसी वजह से इसे 2.76 अंक मिले हैं। वहीं, फुटपाथों के अभाव से लोग काफी परेशान दिखे हैं। इसी कारण इसकी स्थिति पर लोगों ने 2.72 अंक दिए हैं। यातायात और सड़क सुरक्षा को लोगों ने 2.7 अंक दिए हैं। अतिक्रमण से रायपुर के लोग भी चिंतित हैं, इस कारण शहर को यहां के लोगों ने 2.54 अंक दिए हैं।

By Krishan Kumar