रायपुर। एलपीजी सिलेंडर का उपयोग करने वाले लोगों को अब हर महीने ज्यादा रकम खर्च करनी होगी। सिलेंडर खरीदने के लिए पहले आपको 652 रुपए देने पड़ते थे, लेकिन अब 719 रुपए देने पड़ेंगे। इसमें सिलेंडर की कीमत 422 रुपए घटाने के बाद 297 रुपए खाते में वापस आ जाएंगे, लेकिन पहले रकम ज्यादा ही देनी पड़ेगी।

एलपीजी सिलेंडरों की कीमत को लेकर हर तीन महीने में होने वाली समीक्षा के बाद बिना किसी शोर-शराबे के सिलेंडरों की कीमत बढ़ा दी गई है। राजधानी समेत राज्यभर के गैस एजेंसियों ने 1 फरवरी से लोगों से 719 रुपए लेने शुरू कर दिए हैं। लोगों की इसकी जानकारी नहीं होने की वजह से कई जगहों पर विवाद भी हो रहा, लेकिन एजेंसी संचालकों का कहना है कि कीमतें केंद्र की ओर से तय होती है। इसलिए वे इसमें कुछ नहीं कर सकते हैं। घरेलू सिलेंडरों की कीमत बढ़ने की वजह से लोगों का खर्चा भी बढ़ गया है। अब एक महीने में दो सिलेंडरों का उपयोग करने वाले लोगों को 1438 रुपए खर्च करने पड़ेंगे। चौंकाने वाली बात यह है कि घरेलू सिलेंडरों की कीमत तो बढ़ा दी गई गई, लेकिन कमर्शियल सिलेंडरों की कीमत अभी भी 1269.50 रुपए रखी गई है। यानी होटलों, दुकानों और दूसरे कारोबार में उपयोग करने वाले लोगों को कमर्शियल सिलेंडर पुरानी कीमत पर ही मिलेंगे।
सौ फीसदी का दावा
इंडियन ऑइल, एचपी और बीपीसीएल कंपनी के अफसरों का दावा है कि छत्तीसगढ़ में एलपीजी ग्राहकों के सौ फीसदी खाते खाते आधार कार्ड से लिंक कर दिए गए हैं। इस वजह से लोगों को सही समय पर सब्सिडी की रकम उनके खाते में पहुंच रही है। राज्य के किसी भी जिले से अब इस तरह की शिकायतें नहीं आ रही हैं कि सब्सिडी की रकम उनके खाते में नहीं पहुंच रही है।

छत्तीसगढ़: सुकमा में नक्सली हमला, दो लोग घायल

दुल्हन लेकर लौटे तो घर में आयकर विभाग मार रहा था छापा

Posted By: Bhupendra Singh