रायपुर, ब्यूरो। नारायणपुर जिले के छोटेडोंगर व कोंडागांव जिले के मर्दापाल थाना क्षेत्रों में सुरक्षा बलों व नक्सलियों के बीच सोमवार तड़के हुई मुठभेड़ में दो मिलिट्री कंपनी मेंबर समेत तीन नक्सली ढेर हो गए। इनमें दो नक्सली आठ-आठ लाख के इनामी हैं।

मिली जानकारी के अनुसार पुलिस को रविवार रात मुखबिर से सूचना मिली कि 20 से 25 नक्सली झारा कैंप के जवानों को निशाना बनाने वहां जा रहे है। इस पर डीआरजी की टीम रात में रवाना कर दी गई। तोयनार व बांसपाल के जंगल में टीम ने एबुंश लगाकर नक्सलियों का इंतजार किया। इस दौरान जमकर बारिश भी हो रही थी। सुबह पांच बजे मौके पर पहुंचे नक्सलियों को पुलिस की मौजूदगी का अहसास होते ही उन्होंने फायरिंग शुरू कर दी। एक घंटे तक चली मुठभेड़ के बाद नक्सली भाग गए। सर्चिंग के दौरान दो वर्दीधारी नक्सलियों का शव मिला। दोनों की शिनाख्त तिरूपति उर्फ कमलेश निवासी मदेड़ जिला बीजापुर व लोकेश उर्फ रमेश कोर्राम निवासी तिरकानार के रूप में की गई। मौके से 9 एमएम पिस्टल, देशी कट्टा, कारतूस, टिफिन बम समेत अन्य सामग्री बरामद की गई।

एसपी अभिषेक मीणा ने बताया कि तिरुपति कंपनी नंबर 6 का सेक्शन कमांडर व इंस्ट्रक्टर है। वह नक्सलियों को टे्रनिंग देकर युद्धकला सिखाया था। रमेश कंपनी के सदस्य के रूप में कार्य करता था ।

एक अन्य घटना में कोंडागांव जिले के खा़े$डसानार व एहकल जंगल में पुलिस-नक्सलियों का आमना-सामना हुआ। एक घंटे हुई गोलीबारी के बाद नक्सली वहां से भाग गए। मौके से एक नक्सली का शव बरामद हुआ, जिसकी शिनाख्त नहीं हो सकी है। मौके से रायफल, भरमार बंदूक, हैंड ग्रेनेड समेत अन्य सामग्री बरामद की गई। वहीं खबर मिली है कि माओवादियों के मिलिट्री सदस्य काफी संख्या में मा़$ड की सीमा से लगे किल्लम व बेचा इलाके में मौजूद हैं। पुलिस ने भी इसकी पुष्टि की है।

Posted By: Bhupendra Singh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस