बिलासपुर। अहमदाबाद-हावड़ा एक्सप्रेस के जनरल कोच के तीन यात्रियों ने बिलासपुर आरपीएफ की स्कार्टिंग पार्टी पर लूटपाट का आरोप लगाते हुए शिकायत दर्ज कराई है। राउरकेला में हुई इस शिकायत की जानकारी मिलने के मामले की जांच कराई जा रही है।

शिकायतकर्ता सारा टोप्पो, पुसू बार्ला और ए बरुआ राउरकेला सोनुवा के रहने वाले हैं। तीनों इस ट्रेन के जनरल कोच में यात्रा कर रहे थे। चांपा स्टेशन में पार्टी में शामिल आरपीएफ के जवानों ने पहले उन्हें धमकी दी। इसके बाद दस हजार रुपए लूट लिए। अन्य यात्रियों के साथ भी वे लूटपाट कर रहे थे।

तीनों यात्रियों ने हिम्मत दिखाते हुए राउरकेला जीआरपी थाने में इसकी शिकायत की। इसे लेकर स्थानीय अखबार में भी खबर प्रकाशित की गई थी। मामला गंभीर होने की वजह से शिकायत व प्रकाशित खबर की कटिंग भी आरपीएफ जोन मुख्यालय में पहुंची।

इस घटना के बाद रेलवे सुरक्षा विभाग में हड़कंप मचा हुआ है। मामले को गंभीरता से लेते हुए सीएससी आरएस चौहान व सीनियर डीएससी भवानी शंकर नाथ ने जांच के आदेश दिए हैं। इंस्पेक्टर स्तर के अधिकारी पूरे मामले की छानबीन कर रहे हैं।

जांच में यह जानकारी मिली है कि स्कार्टिंग टीम में एक एएसआई समेत पांच आरक्षक शामिल थे। अब इनसे पूछताछ भी हो रही है। जानकारी के मुताबिक पांच सदस्यीय स्कार्टिंग पार्टी में एएसआई अनिल टोंड्रे, आरके उपाध्याय, आरसी पासी, एसएन दुबे व जीएस प्रधान के नाम सामने आ रहे हैं।

दोषी मिलने पर कार्रवाई

इस संबंध में दक्षिण पूर्व मध्य रेलवे के सीएससी आरएस चौहान का कहना है कि मामले की जानकारी मिली है। इसी के मद्देनजर जांच कराई जा रही है। इसमें स्कार्टिंग टीम दोषी पाई जाती है तो सभी के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। यात्रियों की सुरक्षा आरपीएफ की पहली प्राथमिकता है।

ड्यूटी लगाने वाले पर सवाल

बताया जा रहा है कि आरपीएफ के इन जवानों की ज्यादातर तैनाती अहमदाबाद- हावड़ा एक्सप्रेस या गीतांजलि एक्सप्रेस में रही है। ऐसे में ड्यूटी लगाने वाले अधिकारी पर प्रश्न चिन्ह लग रहा है। ये दोनों ट्रेन नियमित व लंबी दूरी की है। इनमें ज्यादातर स्थानीय यात्री सफर नहीं करते हैं। आरपीएफ की स्कार्टिंग पार्टी इसका फायदा उठाकर लूटपाट करती है। 

Posted By: Bhupendra Singh