नई दिल्ली, बिजनेस डेस्क। सरकार ने महिलाओं की हाइजीन समस्या को देखते हुए एक बड़ा फैसला लिया है। सरकार अब महिलाओं को सिर्फ एक रुपये में सैनिटरी नैपकिन मुहैया कराएगी। इसके लिए सरकार ने जन औषधि केंद्रों पर बिकने वाले सैनिटरी नैपकिन के मूल्य को घटाकर मात्र एक रुपया प्रति पैड कर दिया है। न्यूज एजेंसी पीटीआइ से इंटरव्यू के दौरान रसायन एवं उर्वरक राज्यमंत्री मनसुख मांडविया ने बताया कि सरकार ने महिलाओं की स्वच्छता को बढ़ावा देने के लिए यह कदम उठाया है। मांडविया ने बताया कि बायोडिग्रेडेबल सैनिटरी नैपकिन की सुविधा जन औषधि केंद्रों पर 27 अगस्त से मात्र एक रुपये प्रति पैड की दर से उपलब्ध होगी।

अभी इसका मूल्य ढाई रुपये प्रति पेड के हिसाब से है, जिससे चार पैड वाले एक पैक का दाम 10 रुपये है। मनसुख मांडविया ने बताया कि कल यानी मंगलवार से यह पैक सिर्फ चार रुपये में मिलेगा। उन्होंने कहा, "हम कल से ओक्सो बायोडिग्रेडेबल सैनिटरी नैपकिन एक रुपये में पेश कर रहे हैं। सुविधा ब्रांड नाम से ये नैपकिन देशभर के 5,500 जन औपधि केंद्रों में उपलब्ध होगा। कीमत में 60 फीसद की कटौती के साथ नरेंद्र मोदी सरकार ने भाजपा की ओर से आम चुनाव 2019 में अपने घोषणा पत्र में किए गए वादे को पूरा किया है। वर्तमान में विनिर्माता उत्पादन लागत पर सैनिटरी नैपकिन की आपूर्ति कर रहे हैं। इसलिए हम नैपकीन के खुदरा मूल्य को नीचे लाने के लिए सब्सिडी देंगे।"

गौरतलब है कि सैनिटरी नैपकिन योजना की घोषणा मार्च, 2018 में हुई थी। वहीं, मई 2018 से इन्हें जन औषधि केंद्रों पर उपलब्ध कराया गया है। पिछले एक साल में जन औषधि केंद्रों से करीब 2.2 करोड़ सैनिटरी नैपकीन बिकी हैं। बता दें कि बाजार में सैनिटरी नैपकिन का औसत दाम 6 से 8 रुपये के बीच है। ऐसे में सरकार की इस पहल से महिलाओं को काफी फायदा होने वाला है।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस