मोदी सरकार - 2.0 के 100 दिन

नई दिल्‍ली, बिजनेस डेस्‍क। शेयर बाजार में चल रही उठा-पटक के बीच निवेशकों की दिलचस्‍पी म्‍युचुअल फंडों में बढ़ी है। जुलाई की तुलना में अगस्‍त में म्‍युचुअल फंडों की प्रबंधनाधीन परिसंपत्ति (AUM) में 4 फीसद की बढ़ोतरी हुई और यह 25.47 लाख करोड़ रुपये हो गई। सबसे ज्‍यादा निवेश इक्विटी और लिक्विड फंडों में किया गया। 

एसोसिएशन ऑफ म्‍युचुअल फंड्स इन इंडिया (AMFI) के अनुसार, जुलाई के अंत में 44 कंपनियों वाले म्‍युचुअल फंड उद्योग की प्रबंधनाधीन परिसंपत्ति 24.53 लाख करोड़ रुपये थी। जहां जुलाई में 87,000 करोड़ रुपये का निवेश किया गया था जबकि अगस्‍त में कुल मिलाकर 1.02 लाख करोड़ रुपये का निवेश म्‍युचुअल फंडों में हुआ। इनमें से 79,000 करोड़ का निवेश अगस्‍त में लिक्विड फंडों में किया गया। 

फंड मैनेजर्स के अनुसार, खुदरा निवेशकों की प्रतिभागिता के कारण इक्विटी और लिक्विड फंडों में निवेश का प्रवाह बढ़ा है। ओपन एंडेड इक्विटी योजनाओं में अगस्‍त के दौरान 9,152 करोड़ रुपये का निवेश किया है हालांकि, क्‍लोज्‍ड एंडेड इक्विटी योजनाओं से 62 करोड़ रुपये की निकासी की गई। इस प्रकार इक्विटी में कुल निवेश अगस्‍त में 9,090 करोड़ रुपये रहा। जुलाई में इन योजनाओं में 8,092 करोड़ रुपये का शुद्ध निवेश किया गया था। 

डेट योजनाओं की बात करें तो लिक्विड फंडों में अगस्‍त के दौरान 79,428 करोड़ रुपये का निवेश किया गया जबकि जुलाई के दौरान इनमें 45,441 करोड़ रुपये का निवेश किया गया था। इसके अलावा, गोल्‍ड एक्‍सचेंज ट्रेडेड फंडों (Gold ETF) में 145 करोड़ रुपये का निवेश किया गया जो जुलाई में 17.66 करोड़ रुपये था। 

AMFI के सीईओ एनएस वेंकटेश ने कहा, 'खुदरा निवेशकों की दिलचस्‍पी इक्विटी म्‍युचुअल फंडों में लगातार बनी हुई है, भले ही बाजार और अर्थव्‍यवस्‍था के हालात अनिश्चित रहे हैं।' 

Posted By: Manish Mishra

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप