नई दिल्ली (बिजनेस डेस्क)। अपना घर होना हर किसी का सपना होता है। यह एक महत्वपूर्ण निर्णय है क्योंकि लोग अपने जीवनकाल में लोन का एक बड़ा हिस्सा घर के लिए लेते हैं। हालांकि सरकार की ओर से संयुक्त संपत्ति स्वामित्व को बढ़ावा देने के लिए कई कदम उठाए गए हैं लेकिन फिर भी बहुत से लोग इस विकल्प को नहीं चुनते हैं। को-ओनर के लिए कई तरीकों से संयुक्त संपत्ति स्वामित्व बहुत फायदेमंद है।

चूंकि बहुत से लोग संयुक्त स्वामित्व के फायदे के बारे में नहीं जानते हैं। बहुत सारे रियल एस्टेट विशेषज्ञ लोगों को अपने पति/पत्नी को संपत्ति के सह-मालिक के रूप में जोड़ने की सलाह देते हैं क्योंकि इससे लोन की एलेजिब्लिटी बढ़ जाती है और सह-मालिकों को टैक्स लाभ भी मिलता है।

दो तरह के सह-स्वामित्व

किरायेदार

यह सह-स्वामित्व का प्रकार है जिसमें दो या दो से अधिक लोग संपत्ति के सह-मालिक हैं लेकिन उनके हिस्से का विशेष रूप से उल्लेख नहीं किया गया है। सभी सह-मालिक बराबर साझेदार हैं और इसलिए प्रत्येक सह-स्वामी पूरी संपत्ति का उपयोग कर सकता है। यदि सह-मालिक की मृत्यु हो जाती है, तो मृतक की इच्छा में उल्लिखित नामांकित व्यक्ति को ब्याज दिया जाता है।

संयुक्त किरायेदारी: इस प्रकार के स्वामित्व में दो या दो से अधिक लोगों की संपत्ति होती है और मालिकों में से किसी की मौत हो जाने पर मृतक का ब्याज जीवित संयुक्त मालिकों को दिया जाता है। फाइनेंशियल एडवाइजर सलाह देते हैं कि विवाहित जोड़े को इस प्रकार के सह-स्वामित्व लेने चाहिए।

संपत्ति के सह-मालिक होने के कुछ फायदे

स्टाम्प ड्यूटी: भारत के अधिकांश राज्यों में पुरुषों और महिलाओं के लिए स्टाम्प ड्यूटी अलग है। दिल्ली में महिलाओं को 4 फीसद स्टैम्प ड्यूटी का भुगतान करना होता है, जबकि पुरुषों को 6% स्टाम्प ड्यूटी खरीदने का भुगतान करना होता है, लेकिन यदि संपत्ति दोनों के स्वामित्व में है, तो स्टैम्प ड्यूटी 5 फीसद है। संपत्ति में संयुक्त स्वामित्व के स्टाम्प ड्यूटी का फायदा लेने के लिए जॉब में रहने वाले विवाहित जोड़ों के लिए संयुक्त रूप से होम लोन के लिए पंजीकरण करने की सलाह दी जाती है। संपत्ति के सह-मालिक स्टैम्प ड्यूटी के साथ-साथ रजिस्ट्रेशन शुल्क, ब्याज और रीपेमेंट राशि पर व्यक्तिगत रूप से कटौती का दावा कर सकते हैं।

लोन: संपत्ति के सह-मालिक होने का सबसे बड़ा लाभ यह है कि इससे लोन पात्रता बढ़ जाती है। यदि एक से अधिक व्यक्ति लोन के लिए आवेदन कर रहे हैं, तो बैंक आवेदकों की संयुक्त आय को देखेगा जो लोन मंजूर होने की संभावना को बढ़ाता है।

लोन रीपेमंट: यदि ईएमआई का भुगतान करने वाले दो लोग हैं तो लोन चुकाना आसान है। अधिकांश रियल एस्टेट विशेषज्ञ विवाहित जोड़े को संयुक्त सह-स्वामित्व की सलाह देते हैं।

टैक्स का लाभ: सह-मालिक आयकर अधिनियम की धारा 80 सी के तहत स्टैम्प ड्यूटी और रजिस्ट्रेशन शुल्क सहित लोन के मूल भुगतान पर 1.5 लाख रुपये तक की कटौती का लाभ उठा सकते हैं।

Posted By: Nitesh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप