पटियाला (बलविंदरपाल सिंह)। बैंक का नाम सुनते ही उस जगह की छवि सामने आ जाती है, जहां हम अपना पैसा सुरक्षित रखते हैं। जरूरत पड़ने पर कर्ज लेकर अपनी जरूरतें भी पूरा करते हैं। इससे अलग हटकर पटियाला में एक ऐसा बैंक है, जहां न तो रुपये जमा होते हैं और न ही कर्ज के रूप में रुपये मिलते हैं। इस बैंक में लोग दवाएं जमा करवाते हैं। यहां से गरीब मरीजों को दवाएं ही नि:शुल्क मिलती हैं।

हम बात कर रहे पंजाब के पटियाला के मेडिसिन बैंक की। इस बैंक की स्थापना ग्रेट थिंकर एनजीओ के सदस्यों ने की है। इस संस्था के सदस्य बेसहारा व आर्थिक रूप से कमजोर बीमार लोगों की मदद के लिए हमेशा तत्पर रहते हैं। वह उनकी मदद उनके घर पर पहुंचकर करते हैं। इस नेक कार्य में मेडिसिन बैंक अहम भूमिका अदा करता है। इस संस्था के 50 से ज्यादा सदस्य हैं।

ऐसे काम करती है संस्था:

ग्रेट थिंकर एनजीओ के प्रधान कंवलजीत सिंह सेखों, महासचिव गुरकीरत सिंह व एचपीएस लांबा बताते हैं कि मेडिसिन बैंक में उन लोगों से भी दवाएं एकत्रित की जाती हैं, जिनके पास दवाएं अतिरिक्त पड़ी रहती हैं। इन दवाओं को जरूरतमंद लोगों तक नि:शुल्क पहुंचाया जाता है। संस्था के सदस्यों के अलावा अन्य दानी लोग भी बैंक में दवाएं दान करते हैं। इसके अलावा संस्था समय-समय पर मेडिकल कैंप भी लगाती है। अब तक संस्था 70 मेडिकल कैंप लगा चुकी है।

पौधे भी बांटते हैं:

संस्था के सदस्य लोगों को मेडिसिन पौधे भी नि:शुल्क बांटते हैं। इन पौधों में कचनार, फालसा, नीम, हार शिंगार, अर्जन, बेल, आंवला, लसूड़ा, तुलसी, एलोवेरा, जगजीनिया, लेमनग्रास व अजवाइन आदि शामिल हैं।

Posted By: Surbhi Jain