नई दिल्ली, बिजनेस डेस्क। आईसीआईसीआई बैंक (ICICI Bank) देश का पहला ऐसा बैंक बनने जा रहा है, जो किसानों के क्रेडिट असेसमेंट के लिए सैटेलाइट डेटा का उपयोग करेगा। विश्व में ऐसा करने वाले चुनिंदा बैंकों में आईसीआईसीआई बैंक शामिल हो रहा है। बैंक ने मंगलवार को घोषणा की है कि वह कृषि क्षेत्र में अपने ग्राहकों की साख का आकलन करने के लिए पृथ्वी की परिक्रमा करने वाले सैटेलाइट डेटा-इमेजरी का उपयोग करेगा। इससे बैंक किसानों के लोन आवेदनों के बारे में सैटेलाइट डेटा के जरिए उनकी साख जानकर तुरंत निर्णय कर सकेगा। इससे किसानों को अपनी मौजूदा साख को बढ़ाने में भी मदद मिलेगी।

सैटेलाइट डेटा-इमेजरी के माध्यम से बैंक बड़ी सहूलियत के साथ संपर्क रहित तरीके से किसानों की जमीन का सत्यापन कर सकेगा। इससे लोन के मूल्यांकन में लगने वाला समय काफी घट जाएगा। आमतौर पर इसमें 15 दिन का समय लगता है। इससे दूरदराज के क्षेत्रों से मिट्टी, फसल और सिंचाई के पैटर्न जानने के लिए ग्राहक और बैंक अधिकारियों को जमीन का दौरा करने की जरूरत नहीं होगी। इससे लॉजिस्टिक लागत भी बचेगी और बैंक को विश्वसनीय जानकारी प्राप्त होगी।

यह भी पढ़ें: LIC OF INDIA ने लॉन्च किया जीवन अक्षय-7 एन्युटी प्लान, जानिए क्या है खासियत

आईसीआईसीआई बैंक ने बीते दिनों मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र और गुजरात के 500 से ज्यादा गांवों के लिए सैटेलाइट डेटा का इस्तेमाल किया है। बैंक का लक्ष्य जल्द ही 63,000 से अधिक गांवों के लिए सैटेलाइट डेटा का इस्तेमाल करना है। बैंक ने अपनी इस योजना में एग्री-फिनटेक कंपनियों के साथ पार्टनिरशिप की है। इन कंपनियों के पास स्पेस टैक्नोलॉजी के वाणिज्यिक उपयोग और मौसम की जानकारी पता लगाने में विशेषज्ञता है। मिट्टी, सिंचाई व फसल के पैटर्न का अध्ययन कर किसानों की साख का आकलन करने व 40 से अधिक मानदंडों के साथ रिपोर्ट तैयार करने के लिए बैंक इन कंपनियों के साथ काम कर रहा है।

बैंक सैटाइलाइट द्वारा मिले कई आंकड़ों का उपयोग किसानों की साख पता करने में करता है। इनमें पिछले सालों में बारिश व तापमान का डेटा, पिछले सालों में जमी मिट्टी की नमी का लेवल, पानी की उपलब्धता, कृषि भूमि के स्थान का पूर्ण विवरण, फसल परिवर्तन की प्रवृत्ति आदि शामिल है।

Edited By: Pawan Jayaswal