नई दिल्ली (बिजनेस डेस्क)। नए साल में लोग कई काम नए सिरे से शुरू करते हैं। लोग आने वाले साल को बेहतर बनाने के लिए नए साल की पूर्व संध्या पर वित्तीय संकल्प लेते हैं। 2019 में पैसा कमाने के इच्छुक लोगों के लिए बाजार में कई निवेश विकल्प उपलब्ध हैं। हालांकि, जो लोग सुरक्षित रिटर्न बनाना चाहते हैं, वे फिक्स्ड डिपॉजिट (एफडी), आवर्ती जमा, पब्लिक प्रॉविडेंट फंड (पीपीएफ), नेशनल सेविंग सर्टिफिकेट (एनएससी) और मंथली इनकम स्कीम (एमआईएस) जैसे निश्चित आय के साधनों में निवेश कर सकते हैं। हम इस खबर में ऐसे ही सुरक्षित निवेश विकल्प के बारे में बता रहे हैं।

2019 के लिए पांच निवेश विकल्प

फिक्स्ड डिपॉजिट (एफडी): फिक्स्ड डिपॉजिट (एफडी) को सुरक्षित निवेश विकल्प माना जाता है जो बचत खातों में जमा की तुलना में अधिक ब्याज देता है। इसमें रिटर्न पूर्व निर्धारित समय के अनुसार मिलता है। एफडी में निवेश के लिए आपके पास बैंक, छोटे वित्त बैंक, गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनियों (एनबीएफसी) और डाकघर है।

आवर्ती जमा (आरडी): आवर्ती जमा (आरडी) एक प्रकार की सावधि जमा है जिसके तहत किसी को निश्चित अंतराल पर एक निश्चित राशि जमा करने की आवश्यकता होती है। ग्राहक हर महीने राशि जमा कर सकते हैं और उसी पर ब्याज आय प्राप्त कर सकते हैं।

पब्लिक प्रॉविडेंट फंड (पीपीएफ): पीपीएफ एक निवेश एवेन्यू प्रदान करता है जिसमें आयकर लाभ के साथ अच्छे रिटर्न मिलते हैं। PPF कर की छूट, छूट, छूट (EEE) श्रेणी के अंतर्गत आता है। इसका मतलब यह है कि रिटर्न परिपक्वता राशि और ब्याज आय को आयकर से छूट मिलती है।

राष्ट्रीय बचत पत्र (एनएससी): एनएससी प्रमाण पत्र डाकघरों से खरीदे जा सकते हैं। राष्ट्रीय बचत प्रमाणपत्र में जमा भी आयकर अधिनियम की धारा 80 सी के तहत कटौती के लिए योग्य हैं। एनएससी में पांच साल की लॉक-इन अवधि होती है।

मासिक आय योजना (MIS): मासिक आय योजना (MIS) डाकघर के साथ खोला जा सकता है, इसकी परिपक्वता अवधि 5 वर्ष है। मासिक आय खाता खोलने के लिए आवश्यक न्यूनतम राशि 1,500 रुपये है। इसमें एक खाते में अधिकतम निवेश सीमा 4.5 लाख रुपये है और जॉइंट खाते में 9 लाख रुपये है।

Posted By: Nitesh