नई दिल्ली (बिजनेस डेस्क)। आम तौर पर युवा आबादी कम उम्र में ही कमाई करने में यकीन रखती है, लेकिन उन्हें सेविंग की उतनी फिक्र नहीं होती। हालांकि अगर कम उम्र में नौकरी के साथ सेविंग की शुरुआत न केवल आपके रिटायरमेंट को सुखद बना सकती है बल्कि अन्य फाइनेंशियल जिम्मेदारियों को भी आसानी से निपटाया जा सकता है।

इस खबर में ऐसी ही योजना के बारे में बताएंगे, जिसमें आप मामूली निवेश कर रिटायरमेंट के बाद अच्छी खासी पेंशन पा सकते हैं। नेशनल पेंशन सिस्टम (एनपीएस) योजना में कम उम्र में शुरू किया निवेश, लंबे समय में उम्मीद से अधिक का रिटर्न दे सकता है।

देखें वीडियो

क्या है नेशनल पेंशन सिस्टम (एनपीएस)?

बचत के लिहाज से नेशनल पेंशन स्कीम (एनपीएस) को एक बेहतर विकल्प माना जाता है। नेशनल पेंशन सिस्टम यानी एनपीएस एक सरकारी रिटायरमेंट सेविंग स्कीम है, जिसे केन्द्र सरकार ने 1 जनवरी 2004 को लॉन्च किया था। सरकार ने देश भर में पॉइंट ऑफ प्रेजेंस (पीओपी) बनाए हैं, जिनमें एनपीएस अकाउंट खुलवाया जा सकता है। देश के लगभग सभी सरकारी और प्राइवेट बैंकों को पीओपी बनाया गया है। इस योजना में निवेश 18 वर्ष की उम्र से लेकर 65 वर्ष से पहले तक किया जा सकता है।

टैक्स छूट का मिलता है फायदा?

एनपीएस इइटी के अंतर्गत यानी “एग्जेंप्ट, एग्जेंप्ट, टैक्स” टैक्स स्ट्रक्चर की श्रेणी में आता है। इसका मतलब एनपीएस में योगदान और कॉर्पस में वृद्धि पर छूट मिलती है, लेकिन एकमुश्त राशि की निकासी पर आंशिक रुप से कर लगता है। एनपीएस में परिपक्वता राशि में से 40 फीसद से अधिक धनराशि पर कर लगता है।

कितने निवेश पर कितना रिटर्न?

मान लीजिए आपने 21 वर्ष की उम्र से कमाई शुरू कर दी है और इसी साल से आपने एनपीएस में हर महीने 1000 रुपये जमा कराने भी शुरू कर दिए हैं। इस हिसाब से आप एनपीएस में हर साल 12,000 रुपये जमा करा रहे हैं। अगर आप लगातार अगले 39 वर्षों तक नियमित आधार पर ऐसा ही निवेश जारी रखते हैं तो आप अपने एनपीएस खाते में 4 लाख 68 हजार रुपये जमा कर चुके होंगे। यानी 60 की उम्र बीतने के बाद आपको इस जमा रकम में से पेंशन मिलना शुरू हो जाएगी। वहीं अगर आप इस जमा पर 10 फीसद के रिटर्न का अनुमान लगा रहे हैं तो एनपीएस कैलकुलेटर के हिसाब से आपका कुल फंड 57.60 लाख हो चुका होगा।

हमने यह डेटा सिर्फ उदाहरण के लिए लिया है आप एनपीएस कैलकुलेटर में अपने हिसाब से निवेश की राशि, अनुमानित लाभ और एन्युटी की अवधि तय कर ये जान सकते हैं कि आपको कितनी मासिक और सालाना पेंशन मिल सकती है।

Posted By: Praveen Dwivedi