नई दिल्ली (बिजनेस डेस्क)। देश के प्रमुख बैंक विशेष तरह के फिक्स्ड डिपॉजिट (एफडी) पर आयकर में लाभ देते हैं। इसे टैक्स-सेविंग फिक्स्ड डिपॉजिट या टैक्स सेविंग एफडी के रूप में भी जाना जाता है। इस फिक्स्ड डिपॉजिट का न्यूनतम मैच्योरिटी पीरियड पांच साल और अधिकतम 10 साल का होता है। इस एफडी के तहत निवेशक आयकर अधिनियम की धारा 80 सी के तहत कर योग्य आय से 1.5 लाख की सालाना छूट प्राप्त कर सकते हैं। शीर्ष बैंको में स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (एसबीआई), पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी), एचडीएफसी बैंक और आईसीआईसीआई बैंक वरिष्ठ नागरिकों को 6.7- 7.75 फीसद की दर से ब्याज देते हैं।

स्टेट बैंक ऑफ इंडिया: सरकारी क्षेत्र का सबसे बड़ा बैंक स्टेट बैंक ऑफ इंडिया (एसबीआई) पांच साल की फिक्स्ड डिपॉजिट स्कीम पर टैक्स सेविंग के तहत आम जनता के लिए 6.85 फीसद की दर से ब्याज का भुगतान करती है, जबकि वरिष्ठ नागरिकों को 7.35 फीसद की दर से ब्याज मिलता है।

पंजाब नेशनल बैंक (पीएनबी): सरकारी क्षेत्र के प्रमुख बैंक पीएनबी की वेबसाइट के अनुसार, पाच साल की टैक्स-सेविंग फिक्स्ड डिपॉजिट स्कीम के तहत पीएनबी आम जनता को 6.25 फीसद और वरिष्ठ नागरिकों को 6.75 फीसद की दर से ब्याज देता है।

आईसीआईसीआई बैंक: निजी क्षेत्र के प्रमुख बैंक आईसीआईसीआई बैंक की वेबसाइट के मुताबिक, बैंक पांच साल की टैक्स सेविंग फिक्स्ड डिपॉजिट पर आम जनता को 7.25 फीसद की दर से और वरिष्ठ नागरिकों को 7.75 फीसद की दर से ब्याज देता है।

एचडीएफसी बैंक: एचडीएफसी बैंक पांच साल की टैक्स सेविंग फिक्स्ड डिपॉजिट पर आम जनता को 7.25 फीसद और वरिष्ठ नागरिकों को 7.75 फीसद की दर से ब्याज का भुगतान करता है।

जानकारी के लिए आपको बता दें कि बैंक जारी होने की तारीख से पांच साल पहले एफडी खातों पर पैसे निकालने की अनुमति नहीं देता है।

Posted By: Nitesh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस