नई दिल्‍ली, बिजनेस डेस्‍क। एक तरफ जहां शेयर बाजार के नाम पर अभी निवेशकों के पसीने छूट रहे हैं और बैंकों के फिक्‍स्‍ड डिपॉजिट (Fixed Deposit) की जमा दरें घट रही हैं, वैसे में अब भी कुछ ऐसे विकल्‍प बचे हैं जहां आप सालाना 10.50 फीसद तक का ब्‍याज अर्जित कर सकते हैं। हम बात कर रहे हैं नॉन-कन्‍वर्टिबल डिबेंचर्स (NCD) की। इस हफ्ते दो कंपनियों ने अपने एनसीडी लॉन्‍च किए है। जेम फाइनेंशियल जहां 10.40 फीसद सालाना ब्‍याज ऑफर कर रही है वहीं आईआईएफएल फाइनेंस 10.50 फीसद का सालाना रिटर्न ऑफर कर रही है। 

शेयर बाजार के उतार-चढ़ाव को देखते हुए जहां निवेशक शेयरों में निवेश करने से झिझक रहे हैं वहीं डेट फंडों से भी वे कुछ हद तक परहेज करते हुए चल रहे हैं क्‍योंकि हाल ही में कुछ कॉरपोरेट द्वारा डेट डिफॉल्ट का मामला सामने आया था। इनमें निवेशकों को नुकसान भी उठाना पड़ा था। 

क्‍या होते हैं NCD?

आम तौर पर कंपनियां एनसीडी के जरिए फंड जुटाती हैं। इन पैसों से वे अपना विस्‍तार करती हैं, कर्ज का बोझ कम करती हैं, कार्यशील पूंजी की जरूरतें पूरी करती हैं और दूसरे अन्‍य कॉरपोरेट उद्देश्‍यों की पूर्ति करती हैं। एनसीडी आम तौर पर बैंकों के फिक्‍स्‍ड डिपॉजिट से ज्‍यादा ब्‍याज ऑफर करते हैं। उदाहरण के तौर पर देश का सबसे बड़ा बैंक एसबीआई 5 से 10 साल के फिक्‍स्‍ड डिपॉजिट पर अभी 6.50 फीसद का ब्‍याज ऑफर कर रहा है। 

क्‍या आपको करना चाहिए इन एनसीडी में निवेश?

एनसीडी की रेटिंग कम से कम एक क्रेडिट रेटिंग एजेंसी से होनी जरूरी है। इससे आपको पता चलता है कि किसी विशेष एनसीडी में कितना रिस्‍क है। अगर किसी एनसीडी की रेटिंग एक से अधिक क्रेडिट रेटिंग एजेंसी ने की है तो उन सबका खुलासा करना जरूरी है। अब चर्चा करते हैं उन एनसीडी की जो 10.50 फीसद तक का ब्‍याज दे रहे हैं। जेएम फाइनेंशियल के एनसीडी को इक्रा और क्रिसिल दोनों ने 'AA' (स्‍टेबल) की रेटिंग दी है। वहीं आईआईएफएल फाइनेंस के एनसीडी को क्रिसिल, ब्रिकवर्क्‍स और इक्रा ने 'स्‍टेबल' की रेटिंग दी है।

एनसीडी में निवेश से पहले इन बातों का रखें ध्‍यान

अगर आप ज्‍यादा रिटर्न के लिए एनसीडी में निवेश करने जा रहे हैं तो सबसे पहले कंपनी और उसकी नकदी प्रवाह पर गौर कीजिए। अगर आप इसमें चूक करते हैं तो आपका निवेश बुरी तरह प्रभावित हो सकता है। हालांकि, अगर सबकुछ सही है तो एनसीडी लंबे समय के लिए शेयरों की तुलना में एक सुरक्षित निवेश साबित हो सकता है।

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस