नई दिल्ली (बिजनेस डेस्क)। आवर्ती जमा (RD) एक ऐसा सेविंग ऑप्शन है, जहां पर मासिक रूप से एक नियमित अमाउंट का तय अवधि के लिए निवेश किया जाता है। खासतौर पर सैलरी पाने वाले और मिडिल क्लास लोगों के लिए आरडी एक निवेश का एक अच्‍छा जरिया माना जाता है। 6 महीने से लेकर 3 साल तक की अवधि के लिए पैसा जोड़ने का यह अच्‍छा विकल्‍प है। RD में निवेश कर आप वैकेशन, बाइक या कार खरीदने आदि जैसे अपने आर्थिक लक्ष्‍यों को आसानी से पूरा कर सकते है। आज हम यहां भारतीय स्टेट बैंक और पोस्ट ऑफिस की तरफ से दी जाने वाली आरडी स्कीम के बीच तुलना कर रहे हैं।

अवधि: एसबीआई आरडी अकाउंट की न्यूनतम अवधि 12 माह और अधिकतम 120 माह होती है, लेकिन पोस्ट ऑफिस आरडी अकाउंट की अवधि सिर्फ 5 साल होती है।

ब्याज दर: एसबीआई आरडी पर दी जाने वाली ब्याज दर बैंक की TDR / STDR के अनुसार आरडी पीरियड पर लागू होती है। यह 6.40 फीसद और 6.85 फीसद है। वरिष्ठ नागरिकों को इस पर 0.50 फीसद अधिक ब्‍याज मिलता है। पोस्ट ऑफिस आरडी पर 7.3 फीसद प्रति वर्ष का ब्‍याज मिलता है जो तिमाही आधार पर जुड़ता जाता है।

कैसे खुलवाएं आरडी अकाउंट: अगर ग्राहक के पास बैंक में सेविंग अकाउंट है और इंटरनेट बैंकिंग चालू है तो एसबीआई आरडी अकाउंट ऑनलाइन भी खोला जा सकता है। पोस्ट ऑफिस से आरडी अकाउंट पोस्ट ऑफिस ब्रांच में जाकर ही खुलवाया जा सकता है।

जमा की लिमिट: एसबीआई आरडी अकाउंट में न्यूनतम 100 रुपये और उसके बाद 10 रुपये के गुणकों में जमा कर सकते हैं, वहीं अधिकतम जमा के लिए कोई सीमा नहीं है। पोस्ट ऑफिस आरडी में न्यूनतम 10 रुपये प्रति माह या 5 रुपये के गुणकों में जमा कर सकते हैं, वहीं अधिकतम जमा की कोई भी सीमा नहीं है।

पेनल्टी चार्ज: एसबीआई आरडी में मासिक तौर पर पैसा जमा न करने पर पेनल्टी चार्ज लिया जाता है। 5 साल या उससे कम अवधि के आरडी अकाउंट के लिए 1.5 रुपये प्रति 100 रुपये पर और 5 साल से अधिक अवधि के आरडी अकाउंट पर 2 रुपये प्रति 100 रुपये पर पेनल्टी लगती है। पोस्ट ऑफिस आरडी में प्रति 5 रुपये के लिए 0.05 रुपये पेनल्टी ली जाती है। लगातार 4 माह तक जमा में देरी करने पर अकाउंट बंद हो जाता है। 

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Sajan Chauhan

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप