नई दिल्ली। ग्लोबल क्रेडिट रेटिंग एजेंसी मूडीज ने रुपये में आई भारी गिरावट को अर्थव्यवस्था की मौजूदा चुनौतियों का संकेत बताया है। एजेंसी का कहना है इस गिरावट से भारत की रेटिंग पर असर पड़ सकता है।

मूडीज की इन्वेस्टर सर्विस एनालिस्ट अस्ति सेठ ने कहा कि रुपये की हालिया गिरावट अर्थव्यवस्था की चुनौतियों को प्रदर्शित करती है। इससे देश की क्रेडिट प्रोफाइल पर असर पड़ेगा। हालांकि इससे भारत की कर्ज भुगतान क्षमता पर असर नहीं पड़ेगा।

डॉलर के मुकाबले रुपये की कीमत 59.93 रुपये का स्तर छू चुकी है। सेठ ने कहा कि चालू खाते का ऊंचा घाटा और कमजोर पूंजी निवेश के अलावा फेड रिजर्व के चेयरमैन बेन बर्नाके की हालिया घोषणा रुपये में गिरावट के प्रमुख कारण है।

मूडीज ने जनवरी में भारत की रेटिंग बीबीए पर बरकरार रखी थी। वित्त वर्ष 2012-13 में देश का चालू खाते का घाटा पांच फीसद रहने का अनुमान है।

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप