नई दिल्ली, जेएनएन। रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड ने तीसरी तिमाही के नतीजे घोषित किए। वित्तीय वर्ष 2022-23 की तीसरी तिमाही में रिलायंस ने उपभोक्ता व्यवसायों के दम पर ₹240,963 करोड़ ($29.1 बिलियन) का कन्सोलिडेटेड राजस्व दर्ज किया, जो 14.8% अधिक है। रिलायंस का तिमाही कन्सोलिडेटेड EBITDA 13.5% बढ़कर ₹38,460 करोड़ ($4.6 बिलियन) रहा। बता दें कि इसमें उपभोक्ता व्यवसायों और अपस्ट्रीम की इसमें महत्वपूर्ण भूमिका रही। Q3 FY2022-23 तिमाही का कन्सोलिडेटेड शुद्ध लाभ 0.6% बढ़कर ₹17,806 करोड़ ($2.2 बिलियन) रहा।

इस तिमाही में रिलायंस जियो ने 53 लाख नेट ग्राहक जोड़े

31 दिसंबर, 2022 को समाप्त होने वाली तिमाही में रिलायंस का पूंजीगत व्यय (कैपिटल एक्सपेंडिचर) ₹37,599 करोड़ ($4.5 बिलियन) जा पहुंचा है। रिलायंस इंडस्ट्रीज का आउटस्टैंडिंग कर्ज ₹303,530 crore ($36.7 billion) रहा जबकि कैश और कैश इक्विवैलेंट ₹193,282 करोड़ है। गौरतलब है कि नेट कर्ज सालाना EBITDA से कम है। (31 दिसंबर 2022 तक के आंकड़े) Q3 FY2022-23 जियो प्लैटफार्मस का कन्सॉलिडेटेड राजस्व ₹29,195 करोड़ रहा जो 20.8 प्रतिशत से ज्यादा है। बता दें कि EBITDA ₹12,519 करोड़ के स्तर पर रहा जो कि 25.1 प्रतिशत अधिक है। जियो प्लैटफॅार्म्स का तीसरी तिमाही का नेट मुनाफा ₹4,881 crore रहा, जो कि 28.6 प्रतिशत ज्यादा है। रिलायंस जियो ने 53 लाख नेट ग्राहक जोड़े, ग्रॉस बढ़ोतरी 3.42 करोड़ की रही। इस तरह 21 दिसम्बर 2022 तक रिलायंस के कुल ग्राहकों की संख्या 43.29 करोड़ तक पहुँच गई है।

जियो ने भारत के 22 राज्यों को 5जी नेटवर्क से जोड़ा

इस तिमाही में रिलायंस जियो का ARPU ₹178.2 प्रति माह रहा जो कि (YoY) 17.5 प्रतिशत ज्यादा है। वहीं, रिलायंस जियो का कुल तिमाही डेटा ट्रैफिक 23.9 प्रतिशत बढ़कर 29.0 बिलियन पर जा पहुंचा है। कुल वॉयस ट्रैफिक भी 10.4 प्रतिशत बढ़कर 1.27 ट्रिलियन मिनट हो गया। सभी को 5G नेटवर्क से जोड़ने की प्रतिबद्धता को आगे बढ़ाते हुए जियो ने भारत के 22 राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों के 134 शहरों को अपने True5G नेटवर्क से जोड़ा है। रिलायंस रिटेल ने शानदार प्रदर्शन के दम पर रिकॉर्ड तिमाही राजस्व दर्ज किया है। कन्सोलिडेटेड तिमाही राजस्व 17.2% बढ़कर रिकॉर्ड ₹67,623 करोड़ रहा। बेहतर कार्यक्षमता और ऑपरेटिंग लीवरेज के बल पर रिलायंस रिटेल ने रिकॉर्ड तिमाही EBITDA दर्ज किया है। यह 24.9 प्रतिशत बढ़कर ₹4,773 करोड़ रहा।

रिलायंस रिटेल ने 6 मिलियन वर्ग फुट क्षेत्रफल में 789 नए स्टोर खोले हैं। अब रिलायंस रिटेल के स्टोर्स की संख्या 17,225 हो गई है, जो 60.5 मिलियन वर्ग फुट में फैल चुके हैं। डिजिटल कॉमर्स और न्यू कॉमर्स व्यवसायों ने और मजबूती से काम करते हुए 38 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की और राजस्व में 18 प्रतिशत का योगदान दिया।

रिलायंस रिटेल ने इस तिमाही में अपना अब तक का सबसे ज्यादा 20 करोड़ 10 लाख फ़ुटफॅाल दर्ज किया।

रिलायंस के O2C व्यवसाय के बिक्री में आई कमी

रिलायंस के O2C व्यवसाय ने ₹144,630 करोड़ का (17.5 billion) राजस्व दर्ज किया जोकि 10% ज्यादा है। ऐसा तेल की कीमतें 11% बढ़ने के कारण संभव हो पाया है। रिलायंस के O2C व्यवसाय ने ₹13,926 crore (1.7 billion) का EBITDA दर्ज किया जो 2.9 प्रतिशत ज्यादा है यातायात से जुड़े ईंधन से आय ₹1,898 रही। रिलायंस के O2C व्यवसाय के बिक्री के लिए किए गए उत्पादन में सेल 8.0 प्रतिशत कम होकर 1.62 करोड़ टन रही। नियमित मेंटेनेंस और इंस्पेक्शन के कारण ये कमी देखी गई। बेहतर गैस मूल्य प्राप्ति और ज्यादा उत्पादन के कारण रिलायंस ऑयल एंड गैस सेगमेंट का राजस्व 93.4% बढ़कर ₹4,948 करोड़ ($598 मिलियन) रहा।

रिलायंस ऑयल एंड गैस का तिमाही EBITDA 90.9 प्रतिशत बढ़कर ₹3,880 करोड़ ($469 मिलियन) पर जा पहुंचा, वहीं, EBITDA मार्जिन 78.4 प्रतिशत रहा। गैस का उत्पादन 6.1 प्रतिशत (Y-o-Y) बढ़कर 41.9 BCF रहा; तिमाही में KGD6 की औसत गैस मूल्य $6.1/MMBTU रहा जो पहले $11.3/MMBTU था। क्षेत्र से उत्पादन वित्तीय वर्ष की चौथी तिमाही के दौरान शुरू होने की उम्मीद है। क्षेत्र से होनेवाले उत्पादन के बल पर KGD6 का उत्पादन वर्ष 2024 में बढ़कर 30 MMSCMD पहुंचने की उम्मीद है।

यह भी पढ़ें: Reliance Jio को साल के अंतिम तिमाही में मिली जबरदस्त बढ़त, शुद्ध मुनाफे में 28 फीसदी की बढ़ोतरी

 

Edited By: Piyush Kumar

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट