नई दिल्ली, पीटीआइ। जैसे कोई बैंक नागरिकों को बचत योजनाएं ऑफर करता है, वैसे ही डाकघर भी बचत योजनाएं ऑफर करता है। योजनाओं के नाम अलग हो सकते हैं लेकिन सभी निवेश के विकल्प होती हैं। ऐसे में आज हम आपको डाकघर की तीन ऐसी योजनाओं की जानकारी देने वाले हैं, जो निवेश पर 7 फीसदी से ज्यादा की ब्याद दरें ऑफर करती हैं। यह तीन योजनाएं- वरिष्ठ नागरिक बचत योजना, पीपीएफ खाता और सुकन्या समृद्धि खाता योजना हैं।

वरिष्ठ नागरिक बचत योजना

ब्याज दर- 7.4 फीसदी (ब्याज तिमाही मिलेगा)

उदाहरण- 10,000 रुपये जमा पर तिमाही ब्याज 185 रुपये बनेगा।

यह योजना 60 वर्ष से अधिक उम्र के लोगों के लिए है। इसके अलावा, कुछ शर्तों के साथ 55 साल से अधिक और 60 साल से कम उम्र के सेवानिवृत्त सिविल कर्मचारी भी इसमें निवेश कर सकते हैं। ऐसे ही कुछ शर्तों के साथ 50 साल से अधिक और 60 साल से कम उम्र के सेवानिवृत्त रक्षा कर्मचारी भी यह खाता खोल सकते हैं। इसके अधिकतम जमा सीमा 15 लाख रुपये है। ब्याज तिमाही आधार पर खाता खोलने की तिथि से 31 मार्च/30 जून/30 सितंबर/31 दिसंबर को देय होता है।

पीपीएफ

ब्याज दर- 7.1 फीसदी (ब्याज वार्षिक मिलेगा)

कोई भी बालिग, जो भारतीय नागरिक है, वह पीपीएफ खाता खोल सकता है। इसके अलावा नाबालिग/मांसिक रूप से बीमार व्यक्ति की ओर से अभिभावक भी खाता खोल सकते हैं। पूरे देश में डाकघर या किसी भी बैंक में केवल एक खाता खोला जा सकता है। एक वित्तीय वर्ष में न्यूनतम राशि 500 रुपये और अधिकत्तम राशि 1,50,000 रुपये जमा की जा सकती है। अगर किसी वित्तीय वर्ष में 500 रुपये की न्यूनतम राशि जमा नहीं की जाती है, तो खाता बंद कर दिया जाता है।

सुकन्या समृद्धि खाता

ब्याज दर- 7.6 फीसदी (ब्याज वार्षिक मिलेगा)

सुकन्या समृद्धि खाता 10 साल से कम आयु की बच्ची के नाम पर अभिभावक खोल सकते हैं। भारत में डाकघर या किसी भी बैंक में बच्ची के नाम पर सिर्फ एक ही खाता खोला जा सकता है। एक परिवार में अधिकतम दो लड़कियों के लिए खाता खोला जा सकता है। वहीं, जुड़वां/तीन बच्चियों के जन्म के मामले में दो से अधिक खाते खोलने की अनुमति होगी। एक वित्तीय वर्ष में खाते की न्यूनतम जमा राशि 250 रुपये है जबकि अधिकतम जमा सीमा 1,50,000 रुपये है।

Edited By: Lakshya Kumar