नई दिल्ली, बिजनेस डेस्क। कोरोना वायरस महामारी और इसके संक्रमण को रोकने के लिए लागू प्रतिबंधों के चलते आर्थिक गतिविधियों पर बड़ा प्रतिकूल प्रभाव पड़ा है। आरबीआई की मौद्रिक नीति समिति की पिछली बैठकों में नीतिगत दरों में कटौती के फैसलों के बाद देश के प्रमुख बैंकों ने जमा पर ब्याज दर को काफी घटा दिया है। भारत में सबसे अधिक लोकप्रिय निवेश विकल्प फिक्स डिपॉजिट की ब्याज दरों में भी पिछले कुछ महीनों में काफी गिरावट आई है। कई बैकों की एफडी दरें तो 10 सालों के न्यूनतम स्तर पर आ गई हैं। ऐसे में निवेशक एफडी पर अधिक रिटर्न के लिए स्मॉल फाइनेंस बैंकों की तरफ देख रहे हैं।

जहां एक तरफ प्रमुख बैंकों ने एफडी पर ब्याज दरों को घटाया है, तो वहीं स्मॉल फाइनेंस बैंक अभी भी एफडी पर 9 फीसद तक ब्याज दे रहे हैं। यह अधिक ब्याज दर निवेशकों को इन बैंकों की तरफ आकर्षित तो करती है, लेकिन निवेशकों के मन में अपनी पूंजी की सुरक्षा से जुड़ी चिंता भी बनी रहती है। पीएमसी बैंक और यस बैंक संकट के बाद निवेशक काफी डरे हुए हैं।

यहां यह जानना जरूरी है कि जब बड़े बैंकों के पास भारी लिक्विडिटी मौजूद होती है, तो वे और अधिक जमा प्राप्त करने के कम इच्छुक होते हैं। यह बात स्मॉल फाइनेंस बैंकों पर लागू नहीं होता है। स्मॉल फाइनेंस बैंक बड़े बैंकों की तुलना में एफडी पर अधिक ब्याज दर की पेशकश करते हैं, क्योंकि वे अधिक से अधिक ग्राहकों को आकर्षित करना चाहते हैं।

कितना सुरक्षित है छोटे बैंकों की एफडी में निवेश

निवेशक को एक बात हमेशा ध्यान रखनी चाहिए कि अधिक रिटर्न प्राप्त करने के लिए जोखिम भी अधिक ही लेना होता है। अगर ज्यादा जोखिम लिया जाएगा, तो रिटर्न भी ज्यादा ही मिलता है। जहां तक बात एफडी की है, तो निवेशक को एक ही बैंक में अपनी पूरी पूंजी नहीं लगानी चाहिए। निवेशक को भिन्न-भिन्न स्मॉल फाइनेंस बैंकों में अपनी पूंजी लगानी चाहिए। निवेशक ध्यान रखें कि बैंक में 5 लाख तक की राशि DICGC के डिपॉजिट इंश्योरेंस प्रोग्राम के तहत बीमित होती है। इसलिए एक बैंक में पांच लाख तक की पूंजी निवेश करना सुरक्षित होता है।

क्या सुरक्षित है पांच लाख से अधिक का निवेश?

स्मॉल फाइनेंस बैंक सीधे आरबीआई द्वारा रेगूलेट होते हैं, चुंकि वे पीएसयू और अन्य निजी क्षेत्र के बैंकों की तरह ही केंद्रीय बैंक द्वारा अनुसूचित बैंकों के रूप में वर्गीकृत होते हैं। इन स्मॉल फाइनेंस बैंकों में पांच लाख से अधिक की राशि उतनी ही सुरक्षित है, जितनी पीएसयू और बडे़ निजी क्षेत्र के बैंकों में सुरक्षित होती है।

Gold Price Today बढ़त के साथ रिकॉर्ड स्तर पर पहुंचा सोना वायदा, चांदी में जबरदस्त उछाल, जानिए कीमतें

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस