नई दिल्ली, बिजनेस डेस्क। कई बार ऐसा होता है जब अचानक पैसों की जरूरत पड़ जाती है, ऐसे में हम सोचने लगते हैं कि अब क्या किया जाए। अचानक पैसों की जरूरत पड़ने पर हम दोस्तों से रिश्तेदारों से बात करते हैं. उनसे पैसे उधार मांगते हैं. कई दफा उनके पास भी पैसे नहीं होते. तब अंत में हमारे पास पर्सनल लोन के अलावा कोई रास्ता नहीं बचता। हालांकि, इसके लिए भी कई शर्तें हैं, सबसे पहले तो यह कि पर्सनल लोन के लिए आपका क्रेडिट स्‍कोर अच्छा होना चाहिए। पर्सनल लोन के तौर पर आपको कितनी ज्यादा रकम मिलेगी यह आय, क्रेडिट रिपोर्ट, लोन चुकाने की क्षमता और कुछ अन्य कारकों पर निर्भर करता है।

पर्सनल लोन के फायदे

यह लोन क्रेडिट कार्ड की तुलना में एक बेहतर लोन विकल्प है, इसमें क्रेडिट कार्ड की लिमिट से ज्यादा राशि उधार ली जा सकती है। पर्सनल लोन लेकर आप मासिक किस्तों (ईएमआई) में इसे चुकता कर सकते हैं। कितनी किस्त कितनी राशियों में चुकानी है इसकी जानकारी लोन देते वक्त ही बता दी जाती है।

एलिजिबिलिटी (पात्रता)

बैंकों में पर्सनल लोन के लिए अलग-अलग एलिजिबिलिटी के नियम हैं। इसकी पूरी जानकारी बैंक के वेबसाइट से ली जा सकती है। यह लोन वेतन पाने वाले लोगों के साथ साथ सेल्फ एम्प्लोय को भी मिलता है। हालांकि, इसके लिए आपके पास अपनी आय का श्रोत होना चाहिए ताकि आप बता सकें।

क्या लगता है दस्तावेज

पर्सनल लोन के लिए आय प्रमाण सबसे जरूरी दस्तावेज है। नई सैलरी स्लिप या हाल ही में आयकर रिटर्न जमा पर्ची इसके लिए जरूरी दस्तावेज है। वैसे तो बैंकों की ओर से पर्सनल लोन के लिए अलग अलग दस्तावेज मांगे जाते हैं, लेकिन आय का प्रमाण सब बैंक की ओर से मांगा जाता है। इसके अलावा पते का प्रमाण पत्र, आधार कार्ड, पासपोर्ट, पैन कार्ड, ड्राइविंग लाइसेंस इनकी जरूरत भी लगती है।

कितना लगता है इंटरेस्ट रेट

पर्सनल लोन पर अन्य लोन की तुलना में ज्यादा ब्याज देना होता है।

Posted By: Nitesh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस