नई दिल्‍ली, पीटीआइ। साल 2019 में सोने में लोगों की दिलचस्‍पी बढ़ी है। सुरक्षित परिसंपत्ति समझे जाने वाले सोने में पिछले साल लोगों ने जमकर निवेश किया। वैश्विक बाजारों में सुस्‍ती और इक्विटी तथा डेट बाजारों में उतार-चढ़ाव को देखते हुए निवेशक पिछले छह साल से गोल्‍ड एक्‍सचेंज ट्रेडेड फंड से पैसों की निकासी कर रहे थे। 2019 में लोगों ने Gold ETF में 16 करोड़ रुपये का निवेश किया है। 

मॉर्निंगस्‍टार इन्‍वेस्‍टमेंट एडवाइजर इंडिया के सीनियर एनालिस्‍ट मैनेजर भविष्‍य की बात करें तो अमेरिका और इरान के बीच बढ़ते तनाव और वैश्विक अर्थव्‍यवस्‍था के हालात को देखते हुए Gold ETF की तरफ निवेशकों का आकर्षण और बढ़ने वाला है।

एसोसिएशन ऑफ म्‍युचुअल फंड्स इन इंडिया (AMFI) निवेश बढ़ने से गोल्‍ड फंडों की प्रबंधनाधीन परिसंपत्तियां (AUM) दिसंबर 2019 के अंत में 26 प्रतिशत बढ़कर 5,768 करोड़ रुपये हो गईं जो दिसंबर 2018 के अंत में 4,571 करोड़ रुपये थी। 

पिछले कुछ वर्षों के दौरान खुदरा निवेशकों ने गोल्‍ड ईटीएफ की तुलना में इक्विटी में ज्‍यादा निवेश किया। इक्विटी ने रिटर्न भी बेहतर दिया। 

AMFI के आंकड़ों के अनुसार, निवेशकों ने पिछले साल 14 गोल्‍ड ईटीएफ में कुल मिलाकर 16 करोड़ रुपये का निवेश किया जबकि 2018 में 571 करोड़ रुपये की निकासी की थी। साल 2013, 2014, 2015, 2016 और 2017 में गोल्‍ड फंडों से लगातार निकासी हुई थी। 2012 में 1,826 करोड़ रुपये का निवेश गोल्‍ड फंडों में किया गया था। 

Posted By: Manish Mishra

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस