नई दिल्ली, बिजनेस डेस्क। निवेश के बारे में सबसे अच्छी बात यह है कि यह काफी कम राशि से शुरू किया जा सकता है। कोई व्यक्ति पांच सौ रुपये प्रति माह के साथ भी निवेश शुरू कर सकता है। जिन लोगों ने अभी कमाना शुरू किया है, वे अपनी रिस्क प्रोफाइल के हिसाब से 1,000 रुपये प्रति माह से निवेश शुरू कर सकते हैं। अगर कोई व्यक्ति अपनी 25 साल की उम्र से हर महीने इक्विटी म्युचुअल फंड्स में 1000 रुपये निवेश करता है, तो वह आसानी से 58 साल की उम्र में रिटायरमेंट होने से पहले 50 लाख रुपये का फंड तैयार कर सकता है। आज हम आपको कुछ ऐसे निवेश विकल्प बताने वाले हैं, जिनमें आप अपनी रिस्क प्रोफाइल के हिसाब से मात्र एक हजार रुपये प्रति माह के साथ निवेश शुरू कर सकते हैं।

जो लोग निवेश में अधिक जोखिम उठाना पसंद नहीं करते और अपेक्षाकृत अधिक सुरक्षित निवेश विकल्प को पसंद करते हैं, उनके के लिए दो निवेश विकल्प काफी बेहतर साबित होंगे, जहां वे काफी कम राशि के साथ निवेश शुरू कर सकते हैं। ये हैं पब्लिक प्रोविडेंट फंड (PPF) और रिक्यूरिंग डिपॉजिट (RD)। आइए इनके बारे में जानते हैं।

पब्लिक प्रोविडेंट फंड

कम जोखिम वाले निवेश विकल्पों को पसंद करने वाले लोगों के लिए पीपीएफ लंबी अवधि का एक काफी बेहतर निवेश विकल्प है। यह गांरटीड टैक्स फ्री रिटर्न प्रदान करता है। पीपीएफ पर ब्याज दर सरकार द्वारा तय की जाती है। जुलाई से सितंबर तिमाही के लिए पीपीएफ 7.1 फीसद ब्याज दर की पेशकश कर रहा है। अगर आप पीपीएफ अकाउंट में हर महीने 1,000 रुपये निवेश करते हो, तो आप 15 साल बाद 3.25 लाख रुपये का फंड तैयार कर सकते हो। इसमें आप द्वारा निवेश की राशि 1.80 लाख रुपये होगी। वहीं, अगर आप 30 साल तक यह निवेश जारी रहने देते हो, तो आप 7.1 फीसद की ब्याज दर के हिसाब से 12.36 लाख का फंड तैयार कर सकते हो।

आरडी

इस निवेश विकल्प में आप हर महीने एक निश्चित राशि जमा कर अच्छा-खासा रिटर्न प्राप्त कर सकते हो। अधिकांश बैंकों द्वारा अपने ग्राहकों से आरडी की पेशकश की जाती है। इस निवेश विकल्प में कोई लॉक-इन पीरियड नहीं होता है। अर्थात आप कभी भी अपना पैसा निकाल सकते हैं। इस समय देश के प्रमुख बैंक एक से पांच साल की अवधि वाली आरडी पर तीन से छह फीसद तक ब्याज दे रहे हैं। वहीं कुछ स्मॉल फाइनेंस बैंक और को-ऑपरेटिव बैंक आरडी पर 9 फीसद ब्याज दर की भी पेशकश कर रहे हैं। आरडी पर कमाया गया ब्याज ग्राहक के टैक्स स्लेब के अनुसार कर योग्य होता है।

यह भी पढ़ें: Bank FD से ज्यादा चाहते हैं रिटर्न तो डेट म्युचुअल फंडों का लें सहारा, बेहतर लाभ के साथ निवेश में लाएं स्थिरता

आइए अब कुछ ऐसे निवेश विकल्पों की बात करते हैं, जहां थोड़ा जोखिम उठाकर कम पूंजी के निवेश से बेहतरीन रिटर्न प्राप्त किया जा सकता है।

शेयरों में निवेश

कोई भी शेयरों में प्रति माह 1,000 रुपये निवेश कर लंबी अवधि में एक अच्छा पोर्टफोलिया तैयार कर सकता है। इसके लिए सिस्टैमेटिक इक्विटी प्लान (SEP) का इस्तेमाल किया जा सकता है। इसके जरिए आप हर महीने अपनी पसंद से एक राशि शेयरों में निवेश कर सकते हैं। इस तरह इस पद्धति से आप 20 साल में एसईपी के जरिए हर साल 12,000 रुपये निवेश करके 20 निफ्टी शेयरों का पोर्टफोलियो तैयार कर सकते हो। इस तरह आप लंबे समय में मोटा रिटर्न पा सकते हैं।

इक्विटी म्युचुअल फंड में निवेश

इक्विटी म्युचुअल फंड में एसआईपी के जरिए निवेश की शुरूआत सिर्फ 500 रुपये से भी की जा सकती है। अगर आपको शेयर मार्केट की समझ भी नहीं है, तो आप बस एक ईटीएफ चुन सकते हैं जो सेंसेक्स या निफ्टी को ट्रैक करता है। इस तरह के निवेश से आप लंबी अवधि में आसानी से 10 से 12 फीसद सीएजीआर रिटर्न प्राप्त कर सकते हैं। वही, अगर आप थोड़ा जोखिम ले सकते हैं, तो आप एक डायवर्सिफाइड लार्जकैप फंड में भी एसआईपी के लिए जा सकते हैं।

Posted By: Pawan Jayaswal

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस