नई दिल्ली, बिजनेस डेस्क। हर व्यक्ति कमाई के बाद यह चाहता है कि वह कुछ पैसे बचा ले। और अगर बचत ठीक-ठाक हो जाती है तो फिर खर्च के बाद बचत का एक हिस्सा कहीं निवेश करे ताकि कुछ आय भी प्राप्त हो।इसे देखते हुए ज्यादातर लोग Fixed Deposit को तरजीह देते हैं। एफडी लोगों को इसलिए भी पसंद आता है क्योंकि इसे जोखिम रहित माना जाता है। मौजूदा समय में बैंक फिक्स्ड डिपॉजिट के अलावा पोस्ट ऑफिस टाइम डिपॉजिट भी निवेश के लिए अच्छा विकल्प है। हम इस खबर में आपको इन दोनों के बारे में निवेश से जुड़ी जानकारी दे रहे हैं।

बैंक फिक्स्ड डिपॉजिट: बैंक एफडी किसी भी बैंक में खोला जा सकता है। ज्यादातर बैंक में ऑनलाइन एफडी अकाउंट का भी विकल्प मौजूद है। बैंक में एफडी 7 दिन से लेकर अधिकतम 10 साल तक के लिए है। ऑनलाइन एफडी खोलने से पहले बैंकर से न्यूनतम और अधिकतम राशि, दस्तावेज आदि की जानकारी ले लें। बैंक के एफडी रेट्स की जानकारी उनकी वेबसाइट से ली जा सकती है। अलग-अलग बैंकों की एफडी पर ब्याज दर अलग होती है। 

पोस्ट ऑफिस टाइम डिपॉजिट: डाकघर में टाइम डिपॉजिट अकाउंट कम से कम 1000 रुपये से खोला जा सकता है। अधिकतम राशि जमा करने की कोई सीमा नहीं है। डाकघर में 1 साल, 2 साल, 3 साल और 5 साल का विकल्प है। अब यह आपको तय करना है कि आप कितने टेन्योर का विकल्प चुनना चाहते हैं। 

सुरक्षा की दृष्टि से बात करें तो पोस्ट ऑफिस डिपॉजिट में आपकी जमा राशि की सुरक्षा अधिकतम है क्योंकि इस पर सारकार गारंटी देती है। इसमें सिंगल और ज्वॉइंट अकाउंट दोनों की सुविधा है। अगर उम्र 10 साल से ज्यादा है तो माइनर के नाम से भी अकाउंट खुल जाता है और उसके एडल्ट होने तक देख रेखे अभिभावक को करना होता है। इस स्कीम में 5 साल के लिए किया गया निवेश टैक्स बेनेफिट के लिए योग्य होता है और इनकम टैक्स एक्ट 1961 के धारा 80C के तहत छूट ली जा सकती है।

रिटर्न और टैक्सेशन के हिसाब से देखा जाए तो दोनों बराबर ही हैं, अंतर यह है कि बैंक फिक्स्ड डिपॉजिट एक समय तक ही सुरक्षित है। पोस्ट ऑफिस में पूरा पैसा सेफ है। निवेश के लिहाज से पोस्ट ऑफिस में निवेश करना सही रहेगा।

Posted By: Nitesh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस