नई दिल्ली (बिजनेस डेस्क)। भारत अगले कुछ साल दुनिया में सबसे तेजी से बढ़ने वाली अर्थव्यवस्था बना रहेगा। विश्व बैंक की ताजा में यह बात कही गई है। विश्व बैंक ने ग्लोबल इकोनॉमिक प्रॉस्पेक्ट के जून संस्करण में चालू वित्त वर्ष के लिए भारत की विकास दर 7.3 फीसद रहने का अनुमान व्यक्त किया है। अगले वित्त वर्ष में विकास दर 7.5 फीसद रहने का अनुमान है।

विश्व बैंक के डेवलपमेंट प्रॉस्पेक्ट्स ग्रुप के डायरेक्टर अयहान कोसे ने कहा, ‘भारतीय अर्थव्यवस्था मजबूत और लचीली है। इसमें सतत विकास की क्षमता है। दुनिया की प्रमुख उभरती अर्थव्यवस्थाओं में भारत सबसे तेजी से बढ़ती अर्थव्यवस्था का तमगा बनाए रखेगा।’ जनवरी की में भी विश्व बैंक ने भारत की विकास दर 7.3 फीसद रहने का अनुमान व्यक्त किया था। कोसे ने कहा, ‘भारत में उपभोग के क्षेत्र में विकास और मजबूत निवेश की योग्यता है। भारत में इस विकास को बनाए रखने की क्षमता है और हमें उम्मीद है कि भारत इस क्षमता को भुनाएगा।’ उन्होंने भारत के श्रम बाजार में महिलाओं की बढ़ती सहभागिता पर भी ध्यान देने की बात कही। कोसे ने अंतरराष्ट्रीय मोर्चे पर मिल रही चुनौतियों का भी जिक्र किया। उन्होंने कहा कि वैश्विक अर्थव्यवस्था में हो रहे बदलावों से भी उभरते बाजारों पर असर पड़ रहा है। ट्रेड वार जैसी स्थितियों का विकास परिदृश्य पर प्रभाव पड़ता है। कच्चे तेल की बढ़ती कीमतों से भी भारत और अन्य तेल आयातक देशों को चुनौती का सामना करना पड़ रहा है।

विश्व बैंक की में चीन की विकास दर में गिरावट का अनुमान जताया गया है। के मुताबिक, 2017 में चीन की विकास दर 6.9 फीसद रही, जो 2018 में 6.5 फीसद, 2019 में 6.3 फीसद और 2020 में 6.2 फीसद रहने का अनुमान है। में दक्षिण एशिया की विकास दर 2018 में 6.9 फीसद और 2019 में 7.1 फीसद रहने का अनुमान व्यक्त किया गया है।

रिजर्व बैंक ने भी स्थिर रखा अनुमान

मौद्रिक नीति समीक्षा में रिजर्व बैंक ने चालू वित्त वर्ष के लिए आर्थिक विकास दर का अनुमान 7.4 फीसद पर स्थिर रखा है। केंद्रीय बैंक का कहना है कि निवेश गतिविधियों में सुधार हो रहा है। इन्सॉल्वेंसी एंड बैंक्रप्सी कोड के तहत दबाव वाले सेक्टरों के रिजॉल्यूशन से इसे और गति मिलने की उम्मीद है। रिजर्व बैंक का कहना है कि वैश्विक स्तर पर भी मांग बढ़ रही है, जिससे निर्यात बढ़ेगा।

Posted By: Surbhi Jain

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप