नई दिल्ली (बिजनेस डेस्क)। कोटक महिंद्रा बैंक के एमडी उदय कोटक, देश के एकमात्र वैसे बैंकर हैं, जिनके वेतन में बढ़ोतरी हुई है। कोटक महिंद्रा बैंक की सालाना रिपोर्ट के मुताबिक प्रबंध निर्देशक (एमडी) उदय कोटक का वेतन मार्च 2017 के अंत में 2.63 करोड़ रहा था, जो मार्च 2018 में समाप्त वित्त वर्ष में बढ़कर 2.92 करोड़ हो गया। उदय कोटक के वेतन में इस तरह से 11.02 फीसद की बढ़ोतरी दर्ज की गई है।   

वित्त वर्ष 2018-19 बैंकों के लिए चुनौतीपूर्ण समय रहा है। इस दौरान बैंकों को एनपीए के बढ़ते बोझ के साथ भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) की कड़ी निगरानी का सामना करना पड़ा।वहीं एक्सिस बैंक, एचडीएफसी बैंक और यस बैंक के सीईओ की सैलरी में इस दौरान कटौती हुई है। इन बैंकों की सालाना रिपोर्ट के मुताबिक मार्च 2018 में समाप्त वित्त वर्ष में सभी सीईओ (मुख्य कार्यकारी अफसर) के मेहनताने में गिरावट आई है। हालांकि अब तक इंडसइंड बैंक और आइसीआइसीआइ बैंक की सालाना रिपोर्ट प्रकाशित नहीं हुई है।

यस बैंक के सीईओ राणा कपूर का कुल वेतन (जिनमें स्टॉक ऑप्शन शामिल नहीं है), 22.12 फीसद की गिरावट के साथ 5.53 करोड़ रुपये के स्तर पर आ गया है, जो मार्च 2017 अंत में 6.87 करोड़ रुपये था।  वेतन में गिरावट का मुख्य कारण बेसिक सैलरी और साल भर के दौरान अतिरिक्त सुवधाओं में आई गिरावट है। एचडीएफसी बैंक के प्रबंध निर्देशक आदित्य पुरी वित्त वर्ष 2018 में मेहनताने में 4.07 फीसद की कमजोरी के बावजूद सबसे ज्यादा कमाने वाले बैंकर रहे हैं। मार्च 2018 में समाप्त वित्त वर्ष के दौरान पुरी की कुल कमाई बीते वर्ष की तुलना में 10.05 करोड़ की तुलना में 9.64 करोड़ रुपये रही।

एक्सिस बैंक की सीईओ शिखा शर्मा के मेहनताने में 11.15 फीसद की गिरावट दर्ज की गई है। शर्मा का वेतन वर्ष 2017 के 5.39 करोड़ रुपये से घटकर वर्ष 2018 में 4.77 करोड़ रुपये हो गया। यह गिरावट वेरिएबल पे में गिरावट के कारण आई है। भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) के चेयरमैन रजनीश कुमार ने मार्च 2018 में समाप्त वित्त वर्ष के दौरान सैलरी और भत्ते के रूप में 14.25 लाख रुपये कमाये हैं। कुमार ने बैंक की कमान अक्टूबर 2017 में संभाली थी।

Posted By: Surbhi Jain