नई दिल्ली (बिजनेस डेस्क) इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) की ब्रांड वैल्यू में इजाफा हुआ है। आईपीएल की ब्रांड वैल्यू पिछले साल की तुलना में 19% बढ़कर 6.3 बिलियन डॉलर (43 हजार 260 करोड़ रुपए) हो गई है। 2017 में इसकी ब्रैंड वैल्यू 5.3 बिलियन डॉलर (36 हजार करोड़ रुपए) थी। 11 साल पहले शुरू हुआ इंडियन प्रीमियर लीग का सफर विश्व स्तर पर अपनी साख बढ़ाने में सफल रहा है।

डफ एंड फेल्प्स की रिपोर्ट के अनुसार, आईपीएल की व्यूअरशिप बढ़ी है साथ ही टीमों की ब्रांड वैल्यू में भी इजाफा हुआ है। रिपोर्ट के मुताबिक, 2018 के सत्र में आईपीएल को स्टार इंडिया के रूप में नया प्रसारक मिला था, जिसने अगले पांच सालों के लिए इस लीग के प्रसारण अधिकार 16347.5 करोड़ रुपए में खरीदे थे। इस रिपोर्ट में यह भी कहा गया है कि यह पहला साल है जब लीग के करीब सभी मैचों के सभी टिकट बिके थे। 2018 में चेन्नई सुपर किंग्स ने खिताब पर कब्जा जमाया था। हालांकि चेन्नई सुपर किंग्स पर दो साल का प्रतिबंध लगा था बावजूद टीम ने जबरदस्त वापसी की।

डफ एंड फेल्प्स न्यूयॉर्क की कॉर्पोरेट फाइनेंस एडवाइजरी फर्म है। इसके एशिया पैसिफिक लीग फॉर वैल्यूएशन सर्विसेज के प्रबंध निदेशक वरूण गुप्ता के मुताबिक, स्टार इंडिया के साथ बड़ी साझेदारी से आईपीएल की ब्रांड वैल्यू बढ़ाने में मदद मिली है। आईपीएल इसके बाद विश्व की बड़ी लीगों (प्रति मैच फीस के आधार पर) में शामिल हो गया है। ब्रांड वैल्यू में इजाफे से प्रायोजक, प्रसारक और विज्ञापनकर्ता भी बढ़े हैं। मालूम हो कि आईपीएल 11 का प्रसारण 17 चैनलों पर 8 भाषाओं में हुआ। रिपोर्ट के अनुसार, स्टार इंडिया ने एडवरटाइजिंग रेवेन्यू से 2000 करोड़ रुपए की कमाई की। यह पिछले सीजन की तुलना में 54% ज्यादा है। 2017 में सोनी नेटवर्क ने एड रेवेन्यू से 1300 करोड़ रुपए कमाए थे।

रिपोर्ट के मुताबिक, मुंबई इंडियंस और कोलकाता नाइटराइडर्स आईपीएल की दो सबसे लोकप्रिय फ्रेंचाइजी हैं जिनकी कीमत 100 मिलियन डॉलर के पार हो चुकी है। मुंबई इंडियंस की वैल्यू में 7% का इजाफा हुआ है और अब यह 775 करोड़ रुपए तक पहुंच गई है जबकि कोलकाता नाइटराइडर्स की ब्रांड वैल्यू 5% बढ़कर 714 करोड़ हो गई है। महेंन्द्र सिंह धौनी की अगुआई वाली चेन्नई सुपर किंग्स की ब्रांड वैल्यू बढ़कर 672 करोड़ रुपए हो गई है। रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर की ब्रांड वैल्यू 98 मिलियन डॉलर (करीब 673 करोड़ रुपए) है। दिल्ली डेयरडेविल्स (52 मिलियन डॉलर, करीब 357 करोड़ रुपये), सनराइजर्स हैदराबाद (70 मिलियन डॉलर, करीब 481 करोड़ रुपये), राजस्थान रॉयल्स (43 मिलियन डॉलर, 295 करोड़ रुपये) किंग्स इलेवन पंजाब (52 मिलियन डॉलर, करीब 357 करोड़ रुपये) है। इससे व्यूअरशिप भी 15% बढ़ गई। 20.2 करोड़ दर्शकों ने वीडियो स्ट्रीमिंग (हॉटस्टार) के जरिए आईपीएल देखा है।

 

पिछले सीजन की तुलना में इसमें 55.3% का इजाफा हुआ है। आईपीएल सीजन 11 में 140 करोड़ इंप्रेशन आए। इंप्रेशन का मतलब इतने दर्शकों ने कम से कम एक मिनट आईपीएल देखा है। 2017 में 120 करोड़ इंप्रेशन आए थे।

Posted By: Nitesh

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप