नई दिल्ली (बिजनेस डेस्क)। आइडीबीआइ बैंक ने आज जानकारी दी है कि उसे अपनी सरकारी हिस्सेदारी को 50 फीसद से कम करने और उसका प्रमुख बीमा कंपनी एलआईसी की ओर से अधिग्रहण किए जाने की मंजूरी मिल गई है। इस महीने की शुरुआत में ही केंद्रीय कैबिनेट ने लाइफ इंश्योरेंस कॉरपोरेशन के उस प्रस्ताव को मंजूरी दे दी थी जिसमें उसने कर्ज में दबे आइडीबीआइ बैंक में 51 फीसद हिस्सेदारी खरीदने की बात कही थी।

नियामकीय फाइलिंग में सरकारी बैंक ने बताया कि केंद्र सरकार ने बैंक में सरकारी हिस्सेदारी (शेयरहोल्डिंग) को 50 फीसद से कम करने पर कोई आपत्ति जाहिर नहीं की है और साथ ही आइडीबीआइ बैंक में अपनी नियंत्रण हिस्सेदारी छोड़ने एवं एलआईसी की ओर से बतौर प्रमोटर नियंत्रण हिस्सेदारी का अधिग्रहण करने को भी मंजूरी दे दी है।  

एलआईसी की ओर से बैंक में नियंत्रण हिस्सेदारी का जो अधिग्रहण होगा वो इक्विटी के प्रिफरेंशियल इश्यू/ ओपन ऑफर के जरिए होगा, जिसे नियामकीय मंजूरी मिलना एवं कानूनी अनुपालन को पूरा करना बाकी है। लेनदेन के बाद आईडीबीआइ एलआईसी की सहायक कंपनी होगी, जिसके पास 51 फीसद हिस्सेदारी होगी। वर्तमान समय में एलआईसी के पास इस बैंक में 7.98 फीसद की हिस्सेदारी है।

सूत्रों का मानना है कि बैंक को एलआईसी की ओर से 13,000 करोड़ रुपये की पूंजीगत सहायता मिलेगी, जो कि बैंक के शेयर प्राइज पर निर्भर करेगा। बुधवार को आइडीबीआइ बैंक का शेयर 0.5 फीसद की बढ़त के साथ 62.20 पर बंद हुआ है।

Posted By: Praveen Dwivedi

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप