नई दिल्ली (बिजनेस डेस्क)। विमानन कंपनी गो एयर अक्टूबर से अंतरराष्ट्रीय उड़ान के लिए फ्लाइट शुरू करेगा। इसके साथ ही यह कंपनी विदेश में उड़ान भरने वाली पांचवीं भारतीय कंपनी बन जाएगी। मौजूदा समय में, एयर इंडिया, इंडिगो, जेट एयरवेज और स्पाइसजेट ही इंटरनेशनल फ्लाइट्स ऑपरेट करती हैं।

जानकारी के लिए बता दें कि गोएयर को कन्नूर अंतरराष्ट्रीय हवाई अड्डे से दम्मम सऊदी अरब तक अंतरराष्ट्रीय उड़ान की अनुमति दी गई है। इसके साथ ही नागर विमानन सचिव आरएन चौबे ने कहा कि इंडिगो जहां कन्नूर से दोहा तक उड़ान भरेगी वहीं जेट एयरवेज की उड़ान कन्नूर से अबू धाबी के लिए होगी। उन्होंने उम्मीद जताई है कि अक्टूबर के अंत में इसे शुरू कर दिया जाएगा। 

फिलहाल गोएयर के पास अंतरराष्ट्रीय मार्गों पर उड़ान भरने के लिए सभी पात्रता और मानदंड हैं लेकिन यह केवल घरेलू उड़ानें संचालित करती है। गो एयर के पास 20 से अधिक विमानों का बेड़ा है। संसद में एक लिखित जवाब में सरकार ने बताया कि अंतरराष्ट्रीय संचालन शुरू करने के लिए गो एयर को 'एयर ऑपरेटर सर्टिफिकेट' दे दिया गया है।

वहीं एयर इंडिया के लिए बकाया पैकेज के बारे में जवाब देते हुए सचिव ने कहा कि वे इस मामले पर अंतिम विचार लेने से पहले एयरलाइन को प्रतिस्पर्धी बनाने और वित्त मंत्रालय के साथ परामर्श के लिए काम कर रहे हैं।

उन्होंने कहा कि हम एयर इंडिया में अधिक धनराशि लगाने के बारे में विचार रहे हैं। हम यह सुनिश्चित करना चाहते हैं कि एयरलाइन प्रतिस्पर्धी बनी रहेगी और इसकी बाजार हिस्सेदारी में कोई गिरावट नहीं आए।

सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक नागरिक विमानन मंत्रालय वित्त मंत्रालय के साथ बीमारू एयरलाइन के लिए 11,000 करोड़ रुपये का बेलआउट पैकेज देने पर विचार कर रहा है।

 

चौबे ने कहा कि एयर इंडिया के गैर-आधिकारिक स्वतंत्र निदेशकों के रूप में उद्योगपति कुमार मंगलम बिड़ला और वाईसी देवेश्वर की नियुक्ति से  एयरलाइन को "उच्च गुणवत्ता" की दिशा में  काम करने में मदद मिलेगी। उन्होंने कहा कि हम यह भी सुनिश्चित करना चाहते हैं कि परिचालन मामलों पर फैसला करने के लिए बोर्ड के पास पर्याप्त प्रतिनिधिमंडल सदस्य हों।

Posted By: Nitesh

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस