नई दिल्ली (बिजनेस डेस्क)। देश में कार्रवाई के बाद अब सरकार ने विदेश में अवैध तरीके से जमा किए धन और अर्जित की गई संपत्ति को खंगालना शुरू कर दिया है।

आयकर विभाग ने भारतीय नागरिकों के विदेश में अवैध तरीके से जमा किए गए धन और संपत्ति के खिलाफ बड़ा अभियान शुरू किया है।

अधिकारियों के मुताबिक विभाग ऐसे लोगों के खिलाफ कार्रवाई के लिए हाल ही में बने कानून का इस्तेमाल कर सकता है।

अधिकारी ने कहा कि आयकर विभाग विदेशी जांच एजेंसियों के साथ संपर्क में है। विभाग विदेश के बैंकों में जमा ‘’हजारों भारतीयों’’ के बैंक डिपॉजिट और खरीदी गई संपत्तियों की जांच कर रहा है।

सीबीडीटी चेयरमैन सुशील चंद्रा ने विभाग की इस कार्रवाई की पुष्टि की। हालांकि उन्होंने इस अभियान के बारे में विस्तार से कुछ भी बताने से इनकार कर दिया।

अधिकारियों ने कहा कि विभाग के पास वित्तीय खुफिया ईकाई (एफआईयू)और अन्य सूत्रों से मिली लेन-देन की जानकारी है। उन्होंने बताया कि काले धन के खिलाफ चल रही कार्रवाई के तहत ही इस अभियान की शुरुआत की गई है।

उन्होंने कहा कि कई मामलों में व्यक्तियों और अन्य तरह के करदाताओं को नोटिस भेजकर उनके लेन-देन की जानकारी मांगी गई है।

अधिकारी ने कहा कि हाई प्रोफाइल व्यक्तियों की तरफ से किया गया लेन-देन इस जांच के दायरे में है। हालांकि इस जांच में उन व्यक्तियों को ही काले धन के खिलाफ बने कानून के तहत आपराधिक कार्रवाई का सामना करना पड़ेगा, जिन्होंने अपने आईटीआर फाइल नहीं किया है और जिन्होंने आईटीआर फाइल किया है लेकिन उसमें टैक्स की चोरी की गई है।

गौरतलब है कि सरकार ने काले धन के खिलाफ कार्रवाई को आसान बनाने के लिए 2015 में नया कानून बनाया था। यह कानून विदेश में खरीदी गई अवैध संपत्ति के खिलाफ भी कार्रवाई का अधिकार देता है।

यह भी पढ़ें: देश में एक करोड़ से अधिक आय वाले करदाताओं की संख्या में भारी इजाफा, ITR रिटर्न फाइल करने वालों की संख्या भी बढ़ी

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस