नई दिल्ली (बिजनेस डेस्क)। नेशनल कंपनी लॉ अपीलेट ट्रिब्यूनल (एनक्लैट) ने भूषण पावर एंड स्टील लिमिटेड के कर्जदाताओं (सीओसी) को कंपनी की बोली प्रक्रिया आगे बढ़ाने की मंजूरी दे दी है। एनक्लैट ने कर्जदाताओं से कहा है कि वह टाटा स्टील व ब्रिटेन-स्थित लिबर्टी हाउस द्वारा दाखिल बोली पर अपना फैसला सीलबंद लिफाफे में तैयार रखे। ट्रिब्यूनल ने कहा है कि बोली प्रक्रिया का अंजाम उसके अंतिम फैसले पर निर्भर करेगा। मामले की अगली सुनवाई के लिए एनक्लैट ने 12 जुलाई की तारीख रखी है।

एनक्लैट के चेयरमैन जस्टिस एस. जे. मुखोपाध्याय की अध्यक्षता वाली खंडपीठ ने लिबर्टी हाउस की याचिका स्वीकार करते हुए कर्जदाताओं को कहा कि वे अपना अंतिम फैसला सीलबंद लिफाफे में तैयार रखें। एनक्लैट ने कर्जदाताओं की वह अपील खारिज कर दी, जिसमें उन्होंने टिब्यूनल से दोनों पक्षों को दोबारा बोली लगाने को कहने की गुजारिश की थी।

जेपी मामले में एनसीएलटी के खिलाफ याचिका स्वीकार

जयप्रकाश एसोसिएट्स को 760 एकड़ भूमि अपनी सहायक शाखा जेपी इन्फ्राटेक को वापस लौटाने के एनसीएलटी के आदेश के खिलाफ बैंकों की याचिका एनक्लैट ने गुरुवार को स्वीकार कर ली। इसके साथ ही एनक्लैट के चेयरमैन जस्टिस एस. जे. मुखोपाध्याय की अध्यक्षता वाली दो सदस्यीय खंडपीठ ने कंपनी के समाधान पेशेवर (आरपी) को नोटिस भी जारी किया है। मामले में एनसीएलटी के फैसले के खिलाफ एक्सिस बैंक, स्टैंडर्ड चार्टर्ड बैंक और आइसीआइसीआइ बैंक ने याचिका दायर की थी। खंडपीठ ने मामले की अगली सुनवाई को 13 जुलाई की तारीख दी है।

Posted By: Surbhi Jain

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस