नई दिल्ली,पीटीआइ। भारतीय साइबर स्पेस में इन दिनों आयकर विभाग के नाम का इस्तेमाल करने वाले एक कंप्यूटर मालवेयर का पता चला है। यह आयकर विभाग के नाम से करदाताओं को नकली ई-मले भेजकर उनकी जानकारियां चुराने का काम करता है। अब इसे लेकर सरकारी साइबर सुरक्षा एजेंसी ने करदाताओं को एडवाइजरी जारी की है। एडवाइजरी में साइबर सुरक्षा एजेंसी ने कहा है कि कई करदाताओं को इन दिनों आयकर विभाग के नाम से नकली ई-मेल मिल रहा है, जो कि मालवेयर है और लोगों की जानकारियां चुराता है।

इंडियन कंप्यूटर इमरजेंसी रिस्पांस टीम (CERT-In) ने ताजा एडवाइजरी में कहा, "करीब 12 सितंबर से फिशिंग और मालवेयर कैंपेन एक्टिव है। यह वित्तीय संगठनों और करदाताओं को निशाना बना रहा है। इस कैंपेन में फर्जी ई-मेल भेजे जा रहे हैं, जो कि आयकर विभाग द्वारा भेजे जाने वाले ई-मेल की तरह लगते हैं।"

दरअसल, लोग आईटीआर भरने और रिफंड क्लेम करने जैसे कार्यों को बहुत संजीदगी से लेते हैं। यही कारण है कि हैकर्स मालवेयर के लिए आयकर विभाग के नाम का इस्तेमाल कर रहे हैं। एक वरिष्ठ आयकर अधिकारी ने बताया कि इनकम टैक्स और बैंक से संबंधित नकली ई-मेल्स के बारे में लोगों को चौकन्ना रहने की जरूरत है। उन्होंने बताया कि आयकर विभाग लोगों को ऐसे मामलों से जागरुक रखने के लिए समय-समय पर अभियान चलाता है।

इस एडवाइजरी में दो तरह के नकली ई-मेल के बारे में बताया गया है। पहले ई-मेल में .img या .pif फाइल अटैच होती है। वहीं, दूसरे प्रकार के ई-मेल में लोगों को .pif फाइल डाउनलोड करने के लिए कहा जाता है। इसमें incometaxindia.info डोमेन पर जाने के लिए बोला जाता है। एडवाइजरी में बताया गया है कि यह डोमेन अब बंद कर दिया गया है। साथ ही चेतावनी दी गई है कि इस तरह के संदिग्ध ईमेल में ना तो कहीं क्लिक करें और ना ही कोई फाइल खोलें।

Posted By: Pawan Jayaswal

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप