नई दिल्‍ली, बिजनेस डेस्‍क। हाल के दिनों में ऐसी कई सारी रिपोर्ट्स सामने आई हैं कि लोगों को फर्जी इनकम टैक्‍स नोटिस भेजा गया है। इसे देखते हुए इनकम टैक्‍स डिपार्टमेंट ने कुछ खास कदम उठाए हैं ताकि करदाता ऐसे ठगों के चक्‍कर में न फंसें। अब एक करदाता चाहे तो इस बात की जांच कर सकता है उसे मिलने वाला इनकम टैक्‍स डिपार्टमेंट का नोटिस ओरिजिनल है या फर्जी। टैक्‍स क्‍लेम को वेरिफाइ करने के लिए करदाता इनकम टैक्‍स डिपार्टमेंट की ई-फाइलिंग वेबसाइट पर जा सकते हैं। इसके लिए उन्‍हें अपना पैन नंबर एसेसमेंट ईयर, डॉक्‍यूमेंट नंबर आदि वेबसाइट पर डालना होगा। 

इनकम टैक्‍स डिपार्टमेंट अब जो नोटिस जारी करता है उसमें कंप्‍यूटर जेनरेटेड डॉक्‍यूमेंट आइडेंटिफिकेशन नंबर (DIN) होता है। केंद्रीय प्रत्‍यक्ष कर बोर्ड (CBDT) इसे पहले भी स्‍पष्‍ट कर चुका है। आइए, जानते हैं कि इस बात की चांज कैसे की जाए कि इनकम टैक्‍स विभाग का आया नोटिस ओरिजिनल है या फर्जी। 

सबसे पहले आप इनकम टैक्‍स डिपार्टमेंट की ई-फाइलिंग वेबसाइट incometaxindiaefiling.gov.in पर जाएं। यहां लेफ्ट साइड में क्विक लिंक्‍स के नीचे ऑथेंटिकेट टैब नजर आएगा। इस पर क्लिक करें। अब आपको डॉक्‍यूमेंट आइडेंटिफिकेशन नंबर (DIN) या PAN, असेसमेंट ईयर, नोटिस जारी करने की तिथि और वर्ष आदि डालने होंगे। इसके बाद कैप्‍चा डालिए और सबमिट बटन पर क्लिक कीजिए। अगर नोटिस ओरिजिनल है तो इसकी सारी जानकारी आपको वेबसाइट पर मिल जाएगी।

इनकम टैक्‍स विभाग ने यह कदम इसलिए उठाया है ताकि टैक्‍सपेयर फर्जी टैक्‍स नोटिस और धोखाधड़ी से बचे रहें। इस तरीके से करदाता इस बात की तस्‍दीक कर सकते हैं कि उन्‍हें आया इनकम टैक्‍स डिपार्टमेंट का नोटिस ओरिजनल है या फर्जी।

Posted By: Manish Mishra

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप