नई दिल्ली, बिजनेस डेस्क। आयकर विभाग ने सभी परमानेंट अकाउंट नंबर (PAN) धारकों को चेताया है कि वे अपने 10 अंकों वाले PAN को सोशल मीडिया पर सार्वजनिक नहीं करें। विभाग ने कहा है कि इस तरह से निजी जानकारी शेयर होने से इसका दुरुपयोग हो सकता है। गौरतलब है कि कई सारे करदाता ऐसे हैं, जो ट्विटर पर आईटीआर रिफंड्स और इनकम टैक्स रिटर्न्स जैसे विषयों पर बात कर रहे हैं। इनमें से कुछ ऐसे भी हैं जो अपने ट्वीट्स में PAN डाल रहे हैं। इन सब करदाताओं को आयकर विभाग की सोशल मीडिया टीम ने ऐसा नहीं करने के लिए चेताया है।

PAN जैसी अपनी निजी जानकारी सोशल मीडिया पर शेयर करने से फ्रॉड करने वाले लोग आपकी पहचान चुरा सकते हैं और आपकी बिना जानकारी के आपके नाम से ट्रांजेक्शन कर सकते हैं। इसी संबंध में यूनीक आइडेंटिफिकेशन अथॉरिटी ऑफ इंडिया (UIDAI) ने भी आधार कार्ड धारकों को आधार कार्ड का 12 अकों का नंबर सोशल मीडिया पर शेयर नहीं करने के लिए चेताया है। आधार नंबर ना सिर्फ आपके PAN कार्ड बल्कि बैंक अकाउंट और पासपोर्ट से भी लिंक होता है।

आयकर से संबंधित सवालों का जवाब पाने के लिए करदाता एक ऑनलाइन फॉर्म के साथ आयकर अधिकारियों से सवाल पूछ सकता है। जहां सीधे कर अधिकारी आपके सवालों का जवाब देंगे। इस फॉर्म में आपको अपना नाम, PAN असेसमेंट ईयर, मोबाइल नंबर, ईमेल आईडी, आपकी पूरी समस्या और सोशल मीडिया यूजर आईडी देनी होगी। उपरोक्त ट्वीट में आयकर विभाग ने ऑनलाइन क्वेरी फॉर्म का लिंक दिया हुआ है।

Posted By: Pawan Jayaswal

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप