नई दिल्ली (बिजनेस डेस्क)। हर किसी का सपना होता है कि उसके पास अपनी खुद की कार हो। आसानी से उपलब्ध होने वाले लोन के दौर में बेशक यह काम आसान हो गया है, लेकिन इसका इंश्योरेंस प्रीमियम कभी-कभी बोझिल सा जान पड़ने लगता है। ऐसा इसलिए क्योंकि कार का महंगा प्रीमियम अक्सर हमारे मासिक बजट को बिगाड़ देता है। सड़क पर चलने वाली गाड़ियों के लिए थर्ड पार्टी इंश्योरेंस करवाना अनिवार्य है। हालांकि, कुछ टिप्स को अपनाकर आप अपनी कार के इंश्योरेंस प्रीमियम पर कुछ राहत पा सकते हैं।

अलग-अलग इंश्योरेंस कंपनियों के प्रीमियम की करें तुलना: अपनी कार का बीमा करवाने से पहले अलग-अलग बीमा कंपनियों की पॉलिसियों की आपको तुलना करनी चाहिए। कई बीमा कंपनियां ऐसी हैं जो सिर्फ मोटर इंश्योोरेंस ही ऑफर कर रही है। प्रीमियम की तुलना करने के लिए आप विभिन्न वेबसाइट का सहारा ले सकते हैं। ऐसा कर आप आसानी से तय कर पाएंगे कि किस बीमा कंपनी की पॉलिसी आपकी कार के लिए मुफीद होगी और आपकी जेब पर कम बोझ डालेगी।

नो क्लेम बोनस का फायदा सोच समझकर लें: विशेषज्ञों का मानना है कि जब आपकी गाड़ी डैमेज हो तो आपको रिपेयर का एक इस्टीमेट जरूर लेना चाहिए। अगर आपकी ओर से भुगतान की जाने वाली राशि क्लेम करने वाली राशि से कम है तो उस सूरत में आप क्लेम को छोड़ सकते हैं। अगर आप छोटे क्लेम को नजरअंदाज कर देते हैं और छोटे रिपेयर्स का खुद भुगतान करते हैं तो रिन्युअल के समय आपको प्रीमियम भी कम देना होगा। जानकारी के लिए बता दें कि नो क्लेम बोनस वह डिस्काउंट होता है जो कि व्यक्ति को उसके मोटर इंश्योरेंस के रिन्यूअल के दौरान प्रीमियम पर दिया जाता है। इसका मतलब यह हुआ कि अगर इंश्योरेंस लेने वाला व्यक्ति साल भर कोई भी इंश्योरेंस क्लेम न करे तो कंपनी उसे नो क्लेम बोनस का फायदा देती है।

अपनी गाड़ी की टूट-फूट नेटवर्क गैरेज पर ही ठीक कराएं: अगर आपकी गाड़ी में कोई टूटफूट होती है तो बेहतर यही रहेगा कि आप उसे रिपेयरिंग के लिए नेटवर्क गैरेज पर ले जाएं। अगर आप ऐसा करते हैं तो इंश्योरेंस कंपनी आसानी से क्लेम का आंकलन कर सकती है। साथ ही यह सस्ता भी पड़ता है।

उठाएं लॉन्ग टर्म पॉलिसी का फायदा: लॉन्ग टर्म पॉलिसी का चुनाव करना हमेशा आपके लिए फायदेमंद होता है। ऐसा इसलिए क्योंकि यह दो से तीन साल तक की कवरेज के साथ साथ 24X7 की रोड असिस्टेंस भी उपलब्ध करवाता है। अगर आप इस तरह की इंश्योरेंस पॉलिसी का चुनाव करेंगे तो आप मोटर प्रीमियम पर सिंगल ईयर पॉलिसी की तुलना में खर्चे पर भी बचत कर पाएंगे।

अपनी कार में लगवाइए सेफ्टी डिवाइस: बीमा कंपनियां ऐसी कंपनियों को ज्यादा तरजीह देती हैं जिनमें सेफ्टी डिवाइस लगे होते हैं जैसे कि एंटी थेफ्ट डिवाइस, स्टेयरिंग व्हील लॉक, गियर लॉक या एंटी थेफ्ट अलार्म। ऐसी गाड़ियों के प्रीमियम पर आप 5 फीसद तक की छूट पा सकते हैं।

लोकसभा चुनाव और क्रिकेट से संबंधित अपडेट पाने के लिए डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Praveen Dwivedi

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप