नई दिल्ली। इंटरनेट की मदद से कई मुश्किल काम सरल हो गए हैं। अगर बात करें इंश्योरेंस या अन्य फाइनेंशियल प्रोडक्ट्स की तो आज के समय में न तो एजेंट से संपर्क करने की जरूरत पड़ती है और न ही प्रीमियम की गणना करने में ज्यादा दिक्कत आती है। यही नहीं डायरेक्ट सैलिंग के आने से ऑनलाइन पॉलिसी खरीदना काफी सस्ता भी पड़ता है। इस कारण लोग ऑनलाइन इंश्योरेंस पॉलिसी खरीदते हैं। लेकिन ऑनलाइन इंश्योरेंस पॉलिसी खरीदने से पहले कुछ चीजों का ध्यान रखना जरूरी है ताकि भविष्य में क्लेम करते वक्त किसी भी मुश्किल का सामना न करना पड़े।

जागरण डॉट कॉम की टीम अपने पठकों को आज इन्हीं जरूरी बातों के बारे में बता रही है, जो उनका भविष्यश सुरक्षित बना सकती है।

ऑनलाइन नहीं है सबके लिए

ऑनलाइन पॉलिसी खरीदना आसान है मगर इसे हर कोई नहीं खरीद सकता। आप को बात दें कि केवल स्टैंडर्ड केस ही ऑनलाइन मिलते हैं। उदाहरण के तौर पर 45 वर्ष की उम्र से अधिक के लोग या फिर जो लोग पहले से किसी बीमारी से ग्रस्त हैं वो लोग ऑनलाइन हैल्थ इंश्योरेंस नहीं खरीद सकते है। कुछ कंपनियां ऐसी भी हैं जो पांच वर्ष से अधिक पुराने वाहनों का इंश्योरेंस नहीं करती जब तक की उसे वही इंश्योरर रिन्यू नहीं कराता। जब जीवन बीमा खरीदते हैं तो केवल प्योर टर्म पॉलिसी या फिर यूलिप प्लान ही ऑनलाइन खरीदें जा सकते हैं। अधिकांश सेविंग प्रोडक्ट्स को ऑनलाइन खरीदा नहीं जा सकता है।

खरीदने से पहले कीमतों में तुलना जरूर करें

अगर गौर से देखा जाए तो एग्रीगेटर की वेबसाइट और ऑनलाइन इंश्योरेंस ब्रोकर की वेबसाइट पर इंश्योरेंस कंपनी की ओर से ऑफर की जाने वाली कीमतें एक जैसी ही होती हैं। आप चाहे एग्रीगेटर से खरीदें, ऑनलाइन खरीदें या फिर ऑनलाइन ब्रोकर से खरीदें प्रीमियम भुगतान केवल इंश्योरर वेबसाइट पर ही होती हैं। ऐसा ट्रांजेक्शन की सुरक्षा के मद्देनजर किया जाता है।

प्रीमियम एक मगर कवर ज्यादा

जीवन बीमा की कुछ कंपनियों में ऊंचे मूल्य के एश्योर्ड कवर की तुलना में कम मूल्य के एश्योर्ड कवर पर ज्यादा प्रीमियम का भुगतान करना पड़ता है। यह अक्सर 50 लाख के एश्योर्ड मूल्य के मामले में होता है और कुछ एक बार ऊंचे एश्योर्ड मूल्य पर भी। उदाहरण के तौर पर यदि 35 वर्ष की आयु का व्यक्ति 20 साल के लिए पॉलिसी देख रहा है तो उसे 40 लाख के एश्योर्ड मूल्य का प्रीमियम 50 लाख के एश्योरेड मूल्य के प्रीमियम की तुलना में कुछ ज्यादा देना पड़ता है।

कीमतों के साथ सर्विसेस पर भी दें ध्यान

ऑनलाइन प्लेटफॉर्म पर एक ही जगह कई प्रोडक्ट्स की तुलना करने की सुविधा मिल जाती है। कीमतों में तुलना जरूर करें, लेकिन खरीदारी के समय कंपनी की ओर से दी जाने वाली सर्विसेज पर भी विशेष ध्यान दें। हेल्थ पॉलिसी का तयन करते समय नेटवर्क हॉस्पिटल और क्लेंम रिस्पॉान्सस पर भी ध्या न देना चाहिए। कभी सस्ती पॉलिसी के लालच में न पड़े। उदाहरण के तौर पर अगर कंपनी महज 50 फीसदी क्लेम ही सेटलकर पाती है तो उसका चयन करना नासमझी है।

कहां से खरीदें पॉलिसी

ऑनलाइन इंश्योरेंस ऑनलाइन ब्रोकर या फिर सीधे इंश्योरेंस कंपनी से खरीदी जा सकती है। यदि पॉलिसी खरीदते समय किसी भी असमंजस में है तो वेबसाइट पर तुलना जरूर कर लें। ऐसा करने से आप कई विकल्पों में चुनाव कर सकते हैं। लेकिन इसका एक नुकसान भी होता है। आपको बता दें कि वेबसाइट्स को आपकी निजी जानकारी तक का एक्सेस मिल जाता है। यदि कोई इंश्योरेंस कंपनी आपको किसी भी तरह की छूट ऑफर कर रहा है तो ध्यान रखें कि वह इसके बदले में आपको फीचर्स कम की पेशकश करेगा।

Posted By: Surbhi Jain

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप