चालू साल कैसा रहा है जीवन बीमा कारोबार के लिए?

इस साल बहुत ही गतिविधियों वाला रहा है जीवन बीमा उद्योग। सरकार व नियामक एजेंसी इरडा की तरफ से सुधार के लिए कई कदम उठाये गये है। उत्पादों के लिए, प्रीमियम तय करने, बैकों के जरिए या ऑन लाइन बीमा उत्पाद बेचने को लेकर नए नियम आये है जिसकी वजह से माहौल ज्यादा स्पष्ट हुआ है। लेकिन मेरे हिसाब से सबसे बड़ा बदलाव जीवन बीमा कारोबार व कंपनियों की छवि को लेकर आया है। यूलिप के बाद जो नकारात्मक छवि बनी थी वह दूर हुई है और देश में जीवन बीमा उद्योग की बेहद मजबूत नींव इस वर्ष पड़ी है।

इस बदलाव का ग्राहकों पर क्या असर पड़ेगा?

सरकार, नियामक एजेंसी और बीमा कंपनियों ने हाल के दिनों मे जो कदम उठाये है उसकी वजह से एक आम जीवन बीमा ग्र्राहक के हित आज पहले से ज्यादा सुरक्षित होंगे। अब ग्र्राहकों को गलत सूचना दे कर पॉलिसियां नहीं बेची जा सकेंगी। ग्राहकों के पास ज्यादा विकल्प है। वह ऑनलाइन यह जान सकता है कि उसे जो उत्पाद बेचा जा रहा है उससे बेहतर और बाजार में कितनी पॉलिसियां है और उनके प्रीमियम क्या है। नियमन कठोर होने की वजह से बीमा कंपनियों में भी डर होगा। सबसे अहम बात जीवन बीमा को निवेश के लिए नहीं बल्कि आकस्मिक सुरक्षा के लिए खरीदा जाएगा। ऐसा ही होना चाहिए। पूरी दुनिया में ऐसा ही होता है। देश में ज्यादातर कंपनियों ने अब पारंपरिक उत्पादों पर जोर दे रही हैं।

जीवन बीमा खरीदने की योजना बना रहे ग्राहकों को आप क्या सुझाव देंगे?

मेरा पहला सुझाव होगा कि वे पर्याप्त बीमा करवायें। अपने देश के अधिकांश व्यक्ति दो-तीन लाख रुपये का जीवन बीमा करवाते है और फिर समझते है कि बहुत ज्यादा करवा लिया। बीमा की जरूरत तब होती है, जब परिवार का मुखिया नहीं होता। कम बीमा करवाने से कोई फायदा नहीं होता। रिटर्न को वरीयता दे कर जीवन बीमा पॉलिसी खरीदना कई बार उल्टा भी पड़ जाता है। दूसरा सुझाव मैं उन्हें तकनीकी के इस्तेमाल का दूंगा। टाटा एआइजी ने हाल ही में स्मार्ट फोन के लिए पांच एप्स लांच किए है। इसके जरिए किसी भी स्मार्ट फोन पर इन एप्स को मुफ्त डाउनलोड कर ग्राहक अपनी बीमा जरूरत, बाजार में बेहतरीन उत्पाद और उनके प्रीमियम की जानकारी घर बैठे हासिल कर सकते है।

कंपनी की आगे क्या योजना है?

टाटा एआइए जल्द ही 5-6 बीमा पॉलिसियां बाजार में उतारने जा रही है। हमने भारतीय मध्यम वर्ग की जरूरत को ध्यान में रख कर इन पॉलिसियों को तैयार किया है। सभी पारंपरिक बीमा पॉलिसियां होंगी। साथ ही ग्र्रामीण क्षेत्रों में हमारे नेटवर्क का तेजी से विस्तार होगा। कई बैकों की शाखाओं में हमारे उत्पाद मिलने लगेंगे।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस