नई दिल्ली, बिजनेस डेस्क। पिछले दिनों में देश के अलग-अलग हिस्सों में बाढ़ का प्रकोप देखने को मिला, जिसने काफी सारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाया। बाढ़ में कई लोगों की गाड़ियां भी डूब भी गईं। ऐसे में लोगों में मन में ये सवाल उठ रहे हैं कि क्या उनके इंश्योरेंस में गाड़ी डूबने पर कवर शामिल है?

अगर आपकी गाड़ी ऐसी ही किसी बाढ़ में डूब गई है और आप इस पर क्लेम लेना चाहते हैं, तो इसके लिए सबसे पहले आपको अपनी इंश्योरेंस कंपनी में गाड़ी को ठीक कराने को लेकर बातचीत करनी चाहिए। इससे आपको पता लग जाएगा कि इंश्योरेंस कंपनी आपकी कितनी मदद कर सकती है।

वहीं, अगर आप भविष्य में ऐसे किसी नुकसान से बचना चाहते हैं और बारिश या फिर बाढ़ में आपकी गाड़ी डूबने पर इंश्योरेंस कंपनी आपको पूरा क्लेम दे दें। इसके लिए आपको कंपनियों की ओर से ऑफर किए जाने वाले इंश्योरेंस उत्पादों को अच्छे से समझना चाहिए। अपको अपने कार इंश्योरेंस में प्राकृतिक घटनाओं से जुड़े ऐड ऑन को शामिल करना होगा। इससे आपका प्रीमियम थोड़ा बढ़ जाएगा, लेकिन किसी भी आकस्मिक नुकसान से ये आपको बचाएगा।

कॉम्प्रिहेंसिव मोटर इंश्योरेंस लें

प्राकृतिक घटनाओं से बचने के लिए आपको हमेशा कॉम्प्रिहेंसिव मोटर इंश्योरेंस होना चाहिए, जिससे बाढ़, तूफान, चक्रवातों और भूकंप से होने वाले नुकसान को टाला जा सके। यह आपको प्राकृतिक घटनाओं के साथ मानव जनित खतरों जैसे गाड़ी की दुर्घटना, चोरी और अन्य खतरों से बचाएगा।

केवल थर्ड पार्टी इंश्योरेंस न लें

प्राकृतिक घटनाओं में उन वाहन मालिकों को सबसे अधिक नुकसान होता है, जिन्होंने इंश्योरेंस को अपनी गाड़ी की सुरक्षा करने के लिए नहीं बल्कि पुलिस से बचने के लिए है। ऐसे में आपको गाड़ी में हुआ पूरा नुकसान जेब से भरना पड़ेगा। इसके साथ ही आपको इंश्योरेंस में बिल्कुल भी गैप नहीं रखना चाहिए।

Edited By: Abhinav Shalya