नई दिल्‍ली, बिजनेस डेस्‍क। बीमा नियामक इरडा (IRDAI) ने बीमा कंपनियों को मार्च 2022 तक अल्प अवधि के लिए कोविड केंद्रित स्वास्थ्य बीमा पॉलिसी बेचने और उनके नवीनीकरण की इजाजत दी है। देश में कोरोना वायरस के बढ़ते मामलों के बीच भारतीय बीमा नियामक एवं विकास प्राधिकरण (IRDAI) ने बीते साल सभी बीमा कंपनियों से स्वास्थ्य बीमा के रूप में अलग-अलग लाभ के साथ ‘कोरोना कवच’ (Corona Kavach) और ‘कोरोना रक्षक’ (Corona Rakshak) पॉलिसी लाने को कहा था।

स्वास्थ्य बीमा पॉलिसियों की तुलना

Covid 19 3rd wave in India : कई बीमा कंपनियां अल्पकालिक उत्पाद लेकर आई थीं, जो नियमित स्वास्थ्य बीमा पॉलिसियों की तुलना में कम प्रीमियम के कारण लोकप्रिय हो गईं। नियामक ने एक परिपत्र में कहा कि सभी बीमा कंपनियों को 31 मार्च 2022 तक अल्प अवधि वाले कोविड से जुड़ी स्वास्थ्य बीमा पॉलिसी पेश करने और उसके नवीनीकरण की अनुमति है।

बैनामा बीमा क्षतिपूर्ति बीमा का एक रूप

भारतीय बीमा नियामक एवं विकास प्राधिकरण (IRDAI) ने संपत्ति खरीदने वालों को गलत दस्तावेज से सुरक्षा देने के लिये कदम उठाया है। उसने साधारण बीमा कंपनियों से संशोधित प्रारूप में संपत्ति खरीद से जुड़े दस्तावेज यानी बैनामा के जोखिम से बचाव के लिए जल्‍द ही बीमा पॉलिसी पेश करने को कहा है। बैनामा बीमा क्षतिपूर्ति बीमा का एक रूप है। यह संपत्ति के संभावित मालिक को वास्तविक संपत्ति के बैनामा में गड़बड़ियों के कारण वित्तीय नुकसान से बचाता है।

कार्यकारी समूह का गठन

भारतीय बीमा नियामक एवं विकास प्राधिकरण (इरडा) ने गलत बैनामे के कारण नुकसान को लेकर कंपनियों (डेवलपर) के साथ-साथ व्यक्तियों की विधि के अनुसार देनदारी को ‘कवर’ करने के लिये बैनामा बीमा उत्पाद लाने के बारे में सुझाव देने को लेकर कार्यकारी समूह का गठन किया था। समूह की सिफारिश के आधार पर इरडा ने साधारण बीमा कंपनियों से संपत्ति की खरीद दस्तावेज को लेकर बीमा पॉलिसी लाने को कहा है।

(Pti इनपुट के साथ)

Edited By: Ashish Deep