मोटर इंश्योरेंस लेने वाला हर व्यक्ति इससे सहमत होगा कि एक ही प्रकार का बीमा सभी के लिए उपयुक्त नहीं होगा। अक्सर लंबी यात्रा पर जाने वाले व्यक्ति की पसंद दमदार एसयूवी होगी। वहीं, लाइफस्टाइल के क्षेत्र में एक सफल उद्यमी अपने ग्राहकों को आकर्षित करने के लिए एक सेडान गाड़ी पसंद करेगा। संयुक्त परिवार में रहने वाला व्यक्ति एक एमयूवी का चुनाव करेगा। वहीं, एक युवा पेशेवर महिला ऐसी गाड़ी चुनेगी, जिसे वह आसानी से कहीं भी पार्क कर सके और उसके रख-रखाव के लिए भी उसे अधिक धन न खर्च करना पड़े। दूसरी ओर, छोटी छोटी जरूरतों व आसपास जाने के लिए एक हाउसवाइफ स्कूटर खरीदना पसंद करेगी।

भारी बारिश, बाढ़ व वाहन को नुकसान:
-किसी क्षेत्र में अगर बाढ़ आने की आशंका है तो उसका सीधा मतलब है कि आपकी कार के इंजन में पानी घुस सकता है। इससे आपको भारी नुकसान हो सकता है। इससे भी बड़ी बात यह है कि जब आपकी कार कहीं ऐसी जगह खड़ी हो और अचानक से बाढ़ का पानी भर जाए, तब आप उसे चालू करेंगे तो इंजन में पानी भर जाएगा। लेकिन आपकी बीमा कंपनी उसे परिणामत: नुकसान मानेगी। इसका मतलब यह हुआ कि बीमा कंपनी उसकी भरपाई नहीं करेगी। साथ ही, इंजन की मरम्मत बहुत महंगा काम है और इस पर 50,000 रुपये से अधिक खर्च हो सकता है। ऐसी स्थिति में हाइड्रोटेटिक लॉक कवर आपके लिए मददगार हो सकता है, जिसमें इंजन में पानी भरने के चलते होने वाले नुकसान की भरपाई के लिए बीमा कवर होता है।

बम्पर टू बम्पर ड्राइविंग :
-भारत के अधिकांश बड़े शहरों में आज यातायात की समस्या है। गाड़ियां एक के पीछे एक चलती हैं, इसलिए सामने वाली या पीछे वाली गाड़ी में टकराने की घटनाएं आम हैं। आम तौर पर साधारण कार बीमा पॉलिसी फाइबर, प्लास्टिक व मेटल पाट्र्स में 50 प्रतिशत के नुकसान की भरपाई कवर करती हैं। हालांकि यह भी उस वाहन की आयु पर निर्भर करता है। डेंट लगने या रगड़ लगने की हर बार मरम्मत कराने पर काफी खर्च हो सकता है। जो पार्ट्स फाइबर या प्लास्टिक के नहीं हैं, उनके लिए भी जो धनराशि मिलती है वह डेप्रिशिएशन के बाद मिलती है। इसका समाधान डेप्रिसिएशन कवर है। इसके माध्यम से बीमा कराने वाले व्यक्ति को दो बार डेप्रिसिएशन की धनराशि के बराबर भुगतान मिलता है।

नो क्लेम बोनस को सुरक्षित करना (एनसीबी):
-अगर आप सावधानी से गाड़ी चलाते हैं और आपने अपने मोटर बीमा का इस्तेमाल नहीं किया है तो आपका एनसीबी अधिक होगा। कल्पना कीजिए कि आपके किशोरवय बच्चे या किसी रिश्तेदार ने गाड़ी को नुकसान पहुंचा दिया और आपको एनसीबी गंवाने पड़ जाए। इसलिए एनसीबी प्रोटेक्टर कवर आपके नो क्लेम बोनस यानी एनसीबी प्रतिशत को पॉलिसी पीरियड में दो बार दावे की सुविधा मुहैया कराता है। इसलिए जिन वाहन मालिकों ने एनसीबी के 25 प्रतिशत या अधिक एनसीबी एकत्रित कर लिए हैं तो यह उनके लिए बिल्कुल आदर्श है।

कंज्यूमेबल कवर के माध्यम से बेहतर सुरक्षा:
-अगर आप पूर्ण बीमा सुरक्षा कवर ले रहे हैं तो आप यह जान लीजिए कि वाहन में कुछ पुर्जे ऐसे होते हैं, जिन्हें कंज्यूमेबल समझा जाता है। कंज्यूमेबल्स में आम तौर पर नट, बोल्ट, ब्रेक फ्लूइड व अन्य पुर्जे आते हैं। अधिकांश बीमा पॉलिसी इन पर खर्च को कवर नहीं करतीं। इसलिए इस समस्या का समाधान कंज्यूमेबल कवर है। यह कवर उन सभी खर्चों की भरपाई करता है, जब किसी दुर्घटना की वजह से कंज्यूमेबल्स या तो पूरी तरह खत्म हो जाते हैं या उनकी जरूरत पड़ती है।

पैसेंजर सेफ्टी
किसी पथरीली सड़क से होकर जब वृद्ध या बालक के साथ यात्रा कर रहे होते हैं तो यात्री की सुरक्षा चिंता की बात बन जाती है। मोटर बीमा भी ऐसे प्रोडक्ट ऑफर करते हैं, जिसमें यात्रियों की व्यक्तिगत सेफ्टी कवर होती है। इसके लिए कई एडऑन हैं, जिसे आप मोटर बीमा के साथ ले सकते हैं।

पर्सनल एक्सीडेंट कवर
इसके तहत दुर्घटना से मृत्यु, स्थायी रूप से विकलांग या पाक्षिक विकलांग होने पर अधिकतम दो लाख रुपये तक की राशि का कवर होता है।

हॉस्पीटल कैश
अस्पताल में भर्ती होने पर रोजना अधिकतम 1,000 रुपये का भुगतान, जिसे अधिकतम 30 दिन के लिए प्राप्त किया जा सकता है।

एंबुलेंस चार्ज कवर
यह कवर लेने पर आपको यात्रा के दौरान दुर्घटना होने पर संबंधित व्यक्ति को अस्पताल तक पहुंचाने के लिए एंबुलेंस चार्ज कवर भी मिलता है।
सुब्रमण्यम बी
सीनियर वाइस प्रेसिडेंट
भारती एक्सा जनरल इंश्योरेंस

संबंधित अन्य सामग्री पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप