इंश्योरेंस सेक्टर में यूलिप स्कीमों की वापसी को अब काफी समय हो गया है। कैसा प्रदर्शन कर रही हैं यूलिप स्कीमें?

-अभी तो बीमा क्षेत्र का झुकाव परंपरागत बीमा उत्पादों की तरफ ही अधिक है, लेकिन मेरा मानना है कि भविष्य में यूलिप उत्पादों की बिक्री की रफ्तार बढ़ेगी। निवेशकों को यह समझना होगा कि म्यूचुअल फंड के बजाय यूलिप उत्पाद लंबी अवधि वाले उत्पाद हैं जिनमें लाभ पाने में करीब 15 वर्ष का समय लगता है। इस अवधि में रिटर्न पर इस बात से फर्क नहीं पड़ता कि बाजार में कितना तेज उतार-चढ़ाव रहा है। लंबी अवधि में इक्विटी में निवेश सकारात्मक रिटर्न ही देता है। मेरी समझ में यूलिप की सफलता ग्राहकों में जागरूकता पर निर्भर है।

'क्या आपको लगता है कि बाजार की मौजूदा स्थिति में यूलिप ग्राहकों के लिए बेहतर विकल्प है? मिड टर्म के नजरिये से बाजार की चाल कैसी देखते हैं आप?

- देखिए सबसे पहले तो हमें यह समझ लेना चाहिए कि बीमा सदैव लंबी अवधि के लिए होता है। अगर आप लंबे समय तक के लिए निवेशित रहते हैं तो सकारात्मक रिटर्न तय होता है। समस्या तब खड़ी होती है जब लोग धैर्य छोड़ देते हैं या बाजार में तेज गिरावट को देखकर घबराहट में आ जाते हैं। जहां तक घरेलू शेयर बाजार की स्थिति का प्रश्न है, बुरा समय पीछे छूट चुका है। सरकार और सभी नियामक अपने-अपने प्रयास कर रहे हैं। फलस्वरूप सुधार के संकेत भी अब स्पष्ट दिख रहे हैं। मध्य से लंबी अवधि के लिए भारत के प्रति दुनिया भर का आउटलुक

सकारात्मक बना हुआ है। इस परिदृश्य में यूलिप निवेशकों के लिए काफी बेहतर विकल्प साबित हो सकते हैं। इससे ग्राहकों को निवेश और बीमा का लाभ मिलेगा।

अवीवा ने हाल ही में एफ्यूलेंस नाम से एक नया उत्पाद बाजार में उतारा है। क्या है इसके पीछे की सोच?

- हमारा फोकस बीमा के जरिये ग्राहकों के साथ लंबी अवधि का मजबूत रिश्ता कायम करना है। इसके लिए बीमा के सभी उत्पाद लंबे शोध के बाद तैयार किये जाते हैं। इसमें अपने ग्राहकों की जीवन शैली और वित्तीय जरूरतों का ध्यान रखा जाता है। अवीवा एफ्यूलेंस हम उन ग्राहकों के लिए लाये हैं जो अपनी संपत्ति में कई गुना वृद्धि चाहते हैं। यह उत्पाद पूरी तरह उपभोक्ताओं की जरूरतों के मुताबिक है जिसे अवीवा के श्रेष्ठ एडवाइजर तैयार करते हैं। पांच वर्ष से 30 वर्ष तक के लिए प्रीमियम भुगतान अवधि के कई विकल्प उपलब्ध हैं। इसमें कोष तैयार करने या धन वापसी का नियोजित तंत्र मौजूद है। यह हमारे उन उत्पादों में से है जो ग्राहकों को फैसले लेने में मजबूती प्रदान करते हैं।

इस उत्पाद के लक्षित ग्राहक कौन हैं?

-कंपनी के तौर पर हमारा फोकस सेगमेंट और विभिन्न क्षेत्रों पर होता है जहां हम जानते हैं कि अपने ग्राहकों के जीवन में परिवर्तन ला सकते हैं। हमारे एक शोध ने हमें बताया है कि हाई नेटवर्थ ग्राहक ऐसे वित्तीय प्रपत्रों की तलाश में रहते हैं जो उनकी संपदा में वृद्धि करे। साथ ही वे अपनी जीवनशैली के मुताबिक कुछ कस्टमाइज्ड सेवाएं भी चाहते हैं। एफ्यूलेंस बाजार आधारित ऐसा उत्पाद है जो वेल्थ का न केवल सृजन करता है बल्कि ऐसे ग्राहकों की कई विशिष्ट सेवाएं भी प्रदान करता है। इसमें ग्राहकों के लिए डेडिकेटेड सेवा डेस्क, ग्राहकों की जरूरतों के मुताबिक फोन पर सलाह व सेवा की उपलब्धता इस उत्पाद को अलग बनाती है। इसके फंड मैनेजर अपने ग्राहकों के साथ संपर्क कर उन्हें समय-समय पर सलाह प्रदान करते हैं।

आने वाले वर्षों में अवीवा की तरफ से किस तरह के उत्पाद बाजार में आने की उम्मीद है?

- हमारी लगातार यह कोशिश रही है कि हम अपने विभिन्न उत्पादों के जरिये ग्राहकों की हर तरह की जरूरतों को पूरा कर सकें। आज के वक्त में निरंतर ग्राहक उभर रहे हैं। उनकी जीवन शैली की आवश्यकताएं भी निरंतर बदल रही हैं। इसलिए हमारे लिए आवश्यक है कि ग्राहक की इन जरूरतों के अनुरूप हम उत्पाद व सेवा देने को तैयार रहें। हमने कुछ ऐसी श्रेणियों की पहचान की है जहां हम जानते हैं कि ग्राहक के जीवन में हम कई तरह से लाभदायक साबित हो सकते हैं।

कुछ विशिष्ट क्षेत्रों जैसे स्वास्थ्य में हमें भरपूर संभावनाएं दिख रही हैं। जीवन शैली से जुड़े रोगों से ग्रस्त लोगों की संख्या लगातार बढ़ रही है। दूसरी तरफ इलाज कराना निरंतर महंगा होता जा रहा है। आज के वक्त में क्रिटिकल इलनेस से जुड़े बीमा उत्पाद ज्यादा प्रासंगिक हो गए हैं। आने वाले समय में आप इस क्षेत्र में हमारी तरफ से कुछ नए की उम्मीद कर सकते हैं। साथ ही हमेशा की तरह बच्चों से जुड़े बीमा उत्पादों पर हमारा फोकस बना रहेगा।

अंजली मल्होत्रा

चीफ कस्टमर, मार्केटिंग एंड डिजिटल

ऑफीसर, अवीवा लाइफ इंश्योरेंस

Posted By: Babita Kashyap

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप