नई दिल्‍ली, वैभव अग्रवाल। शेयर बाजार में निवेश करना समय के साथ धन सृजन (Wealth Creation) करने के बेहतरीन विकल्‍पों में से एक है। हालांकि, शॉर्ट टर्म निवेश में नुकसान होना आम बात है। निवेश मूल्यों में उतार-चढ़ाव होना भी स्‍वाभाविक है। यदि आपके निवेश का मूल्य गिरता है तो निवेश करने से घबराने के बजाय धैर्य की आवश्यकता होती है। बाजार की अस्थिरता के दौरान पैनिक सेलिंग जैसी गलतियां निवेशक अक्सर करते हैं, जो उन्हें लॉन्ग टर्म में नुकसान पहुंचा सकती है। आइए, जानते हैं कि प्रचलित नकारात्मक व्यवहारों को कैसे पहचानें और उनसे कैसे बचें।

अस्थिर हालातों के दौरान डर

जब भय हावी हो जाता है तो निवेशक इतने परेशान हो जाते हैं कि उन्हें आगे कुछ नहीं सूझता। हर कोई यह भूल जाता है कि स्टॉक फिर से बढ़ भी सकता है। चारों ओर निराशा छा जाती है और हर कोई पूंजी की सुरक्षा चाहता है। इन हालातों में तार्किक सोच वाला दिमाग भी भ्रमित हो जाता है। हर किसी के पास स्टॉक के और ज्यादा गिरने का ही पूर्वानुमान होता है। ऐसे समय पर ज्यादातर निवेशक अपने शेयरों को घाटे में बेच देते हैं और कंपनियों के अच्छे बिजनेस की संभावना की अनदेखी करते हैं।

सुझाव: महान निवेशक वॉरेन बफे कहते हैं कि 'शेयर बाजार बेसब्री से सब्र करने वाले व्यक्ति को धन हस्तांतरित करने का एक उपकरण है।' और यहीं पर डर एक अहम भूमिका निभाता है। 

स्टॉक टिप्स के चक्कर में फंसना 

अपने पूंजी को डूबाने का एक और तरीका है ब्रोकर, दोस्तों, रिश्तेदारों या सहकर्मियों द्वारा दिए गए स्टॉक टिप्स पर एक्शन लेना। जब आप स्टॉक टिप्स के अनुसार काम करते हैं तो आपका ब्रोकर पैसा कमा रहा होता है, न कि आप। कारण यह है कि ये स्टॉक टिप्स फाइनेंशियल रिचर्स के बजाय अनुमानों पर आधारित होते हैं। जिन शेयरों की सलाह आपको दी जाती है उनपर बहुत ज्यादा कर्ज, आय में अस्थिर वृद्धि और वे सभी विशेषताएं होती है जो नहीं होनी चाहिए। यह स्टॉक की कीमतों में सिर्फ उच्च अस्थिरता की स्थिति होती है, जो निवेशकों के बीच सट्टा ब्याज को बढ़ावा देती है। 

हॉट स्टॉक्स/सेक्टर्स के पीछे भागना

पीटर लिंच फिडेलिटी मैगलन म्युचुअल फंड के मैनेजमेंट के लिए जाने जाते हैं। मैगलन म्‍युचुअल फंड अमेरिका में सबसे अच्छा प्रदर्शन करने वाले म्‍युचुअल फंड में से एक हैं। उनका कहना है कि वह सबसे चर्चित सेक्टर के शेयरों में निवेश से बचने की कोशिश करते हैं। किसी दूसरे को देखकर स्टॉक में निवेश करने से बचना चाहिए।

Reliance Communications, Suzlon और DHFL जैसे स्टॉक कभी निवेशकों के बीच सबसे हॉट स्टॉक थे। आज वे जिस हालत में है, उसके बारे में किसी ने सपने में भी नहीं सोचा होगा। चूंकि हर कोई कुछ चुनिंदा नामों के बारे में बात करना शुरू कर देता है, इसलिए ज्यादातर निवेशकों को लगता है कि उन्हें वह स्टॉक खरीदने चाहिए। बता दें कि मल्टीबैगर स्टॉक कम लोकप्रिय स्मॉल-कैप और माइक्रोकैप स्टॉक्स में पाया जा सकता है, न कि उनमें जिनके बारे में हर कोई बात कर रहा होता है।

सुझाव: यदि आप बाजार में पैसा कमाना चाहते हैं तो ट्रेंड के पीछे मत भागिए। इसके बजाय एक ठोस निवेश रणनीति बनाएं और उस पर टिके रहें।

IPOs: पैसा कमाने का आसान तरीका?

निवेशकों के बीच यह बात आम है कि कंपनियों के आरंभिक सार्वजनिक निर्गम (IPOs) में निवेश करने से पैसा नहीं डूबेगा। लगभग सभी यही सोचते हैं कि पब्लिक इश्यू निर्गम मूल्य के प्रीमियम पर खुलेगा और वे उच्च कीमतों पर इसे बेचकर लिस्टिंग के दिन अपनी होल्डिंग से बाहर निकल सकते हैं।

लेकिन ऐसा नहीं है। कई कंपनियां निर्गम मूल्य पर छूट के साथ सूचीबद्ध होकर शेयर बाजार में शुरुआत करती है। कई ऐसे भी होते हैं जो निर्गम मूल्य से नीचे के स्तर पर होते हैं। हालांकि, कम कीमत वाली कंपनियों के IPO मजबूत बिजनेस की बुनियादी बातों के साथ पैसा बनाने के अच्छे अवसर प्रदान करते हैं। लेकिन निवेशकों को हर नए IPO पर भरोसा नहीं करना चाहिए।

धैर्य की कमी

बिना सोचे-समझे, जल्दबाजी में निवेश करने से आपको नुकसान हो सकता है। न सिर्फ नए निवेशकों में धैर्य की कमी होती है, बल्कि दिग्गज निवेशकों को भी इस महारत को हासिल करना चुनौतीपूर्ण लगता है। मानव मन पर भावनाएं हमेशा प्रभावी रहती है। यदि आपने उन कंपनियों के शेयर खरीदे हैं, जिन पर आपको विश्वास है, तो उन्हें लंबे समय तक रखें। यह आपको वित्तीय स्वतंत्रता के करीब ले जाएगा। शायद आपके सहयोगी या पड़ोसी की तुलना में थोड़ा ज्यादा वक़्त लग सकता है, लेकिन यह होगा जरूर।

सुझाव: यदि आप बाजार में उतार-चढ़ाव के दौरान पैसा नहीं खोना चाहते हैं तो सबसे अच्छा दांव है कि आप रुके रहें। धैर्य के साथ काम लें और अपने निवेश के रिकवर होने का इंतजार करें।

सेलिंग द विनर्स एंड राइडिंग द लूजर्स

यह सबसे कॉमन गलतियों में से एक है जो निवेशक करते हैं। वे आमतौर पर विजेताओं पर ध्यान केंद्रित करते हैं और स्टॉक की कीमत बढ़ने पर मुनाफा कमाते हैं। दूसरी ओर, वे इस बात पर ध्यान नहीं देते कि हारने वाले शेयर के साथ क्या हो रहा है।

आप अपने पोर्टफोलियो में नुकसान के साथ जीतने वाले शेयर से प्रॉफिट का आनंद नहीं ले सकते। इतना ही नहीं, हारने वाले शेयर को होल्ड करने से आपकी पूंजी ब्लॉक हो रही है और आप पैसे कमाने के पर्याप्त अवसरों से चूक रहे होते हैं।

Leverage - दो धारी तलवार 

यदि लिवरेज पक्ष में काम करता है, तो पैसा बढ़ाया जा सकता है। लेकिन यह किसी के खिलाफ गया तो उसे दिवालिया होने के कगार पर ला सकता है। मार्जिन का उपयोग शेयरों में निवेश के लिए किया जाता है, तो यह बुल मार्केट में अद्भुत काम कर सकता है। लेकिन उतार-चढ़ाव में अचानक उछाल के परिणामस्वरूप स्टॉक की कीमतें आपके खिलाफ जा रही हैं, तो यह ब्रोकर की ओर से मार्जिन कॉल हो सकती है। एक बार जब यह चक्र शुरू हो जाता है तो मुसीबतें बढ़ती जाती हैं, क्योंकि यह एक खतरनाक चक्र है। आख़िरकार, शेयर बाजार में अमीर से गरीब बनने के किस्से गरीब से अमीर बनने के किस्सों से कई ज्यादा है। शेयर बाजार एक अच्छा शिक्षक है। यह हमें जमीन पर रहना सिखाता है।

उपरोक्त कारकों के अलावा कुछ और फैक्टर है जिसकी वजह से शेयर बाजार में निवेशकों का पैसा डूब सकता है जिसमें फ्रिक्वेंट ट्रेडिंग, धैर्य की कमी, और अन्य बातों का समावेश है।  

निवेश में होने वाले नुकसान से दुख तो होता है, लेकिन यदि निवेशक अपने मासिक अकाउंट स्टेटमेंट पर ध्यान देने के बजाय अपने उद्देश्य पर नजर रखेंगे तो वे शायद बेहतर महसूस करेंगे और लॉन्ग टर्म में अच्छा करेंगे।

(लेखक तेजी मंदी के संस्‍थापक हैं। प्रकाशित विचार उनके निजी हैं।)

Edited By: Manish Mishra

जागरण फॉलो करें और रहे हर खबर से अपडेट