नई दिल्ली, किशोर ओस्तवाल। निफ्टी फ्यूचर्स में 13,717 अंक पर और कैश में 13,634 अंक पर बंद हुआ है, जो शीर्ष स्तर से 7.8 फीसद नीचे है। हमने बजट के बाद 10 फीसद गिरावट की उम्मीद की थी,  जो बजट से पहले ही आ गई है, जो कि अस्वाभाविक नहीं है। बाजार एफपीआई की सहमति के साथ बड़े हाथों द्वारा तय हुआ है और इसलिए यह उनके ऊपर निर्भर करता है कि वे बाजार को कैसे चलाते हैं। हमने दो सप्ताह पहले हेज शॉर्ट करने का चुना था। हमारी हेज शॉर्ट कॉल 14,600-14,700 के स्तर पर थी। यहां से निफ्टी 1100 अंक टूट चुका है, जो कि काफी बड़ी गिरावट है और इस तरह हमें शॉर्ट के लिए जाने से फायदा हुआ है।

अब यह समझना महत्वपूर्ण है कि बाजार बजट के बाद कैसा व्यवहार करेंगे। सपाट विकेटों पर खेलने के लिए किसी भी बल्लेबाज को कौशल की आवश्यकता नहीं होती है, लेकिन प्रतिरोधी फास्ट ट्रैक में खेलने के लिए बहुत अधिक हिम्मत की आवश्यकता होती है। अब हम ऐसी ही परिस्थिती में हैं और इसलिए हमारा विश्लेषण आपको बजट के दिन या उसके बाद अपनी रणनीति निर्धारित करने में मदद कर सकता है।

स्वाभाविक रूप से पहली प्रतिक्रिया बिकवाली की होगी, क्योंकि बाजार पिछले 7 दिनों से प्रोफिट बुकिंग देख रहा है। जहां निफ्टी 1160 अंक गिर गया है और सेंसेक्स 3775 अंक या 7.55 फीसद गिर गया है। जब सेंसेक्स 50000 पर था, तो बाजार में प्रोफिट बुकिंग उन लोगों के लिए थोड़ी स्वाभाविक थी, जिन्होंने अच्छा मुनाफा बनाया, लेकिन FPI के लिए क्या ..? हां, उन्होंने पिछले 7 दिनों में 6000 करोड़ रुपये के शेयर बेचे हैं और उन्होंने मार्केट कैप का 8 फीसद खो दिया है। वे जनवरी के अंत तक 2,64,000 करोड़ रुपये के शुद्ध निवेशक है और 8 फीसद नुकसान का मतलब है 21,120 करोड़ रुपये। यह नुकसान उठाना 2,64,000 करोड़ रुपये का निवेश करने वाले एफपीआई के संदर्भ में सार्थक नहीं दिखता। इस प्रकार प्रथम दृष्टया लगता है कि कुछ हेज फंड्स  पिछले 7 दिनों में यह सोचकर बेचे गए हैं कि साल के सबसे बड़े इवेंट बजट 2021 को देखने के लिए लॉन्ग फंड्स की खरीदारी को कुछ समय के लिए रोक दिया जाए।

हमने अपनी पिछली रिपोर्ट में बताया है कि 35 बिलियन डॉलर की खरीदारी के बाद कुछ ठहराव आएगा, लेकिन इसका मतलब यह नहीं है कि खरीदारी खत्म हो गई है। ताजा खरीद बजट के तुरंत बाद शुरू होगी अगर बजट एफपीआई की सोच को संतुष्ट करेगा। अगर ऐसा होता है, तो ताजा खरीद तुरंत चालू हो जाएगी और ऐसे में 1160 अंक की गिरावट 28 दिनों से भी कम समय में रिकवर हो जाएगी और नई तेजी आ जाएगी। लेकिन अगर बजट एफपीआई को संतुष्ट नहीं करता है, तो फिर क्या ..? उस स्थिति में हमें निफ्टी में 2 से 3 फीसद की और गिरावट देखने के लिए तैयार रहना चाहिए, जिसका मतलब है कि निफ्टी 13,300 तक आ सकता है। इस स्थिति में 13,300 एक बड़ी बात नहीं है और इसलिए आपको 13,300 (+/-100)  पर खरीदने का एक शानदार अवसर मिलेगा। 

आइए अब हम कुछ तथ्यों पर विचार करते हैं। 14000 के स्तर से ही हम कुछ गिरावट के लिए कह रहे थे, जो नहीं आई थी। 14800 के स्तर से 13634 तक आने के रूप में यह पहली बड़ी गिरावट है, जो इच्छा के अनुकूल है। हमने पहले भी उल्लेख किया था कि अगर निफ्टी बजट के बाद 14800 या 15000 या 15100 से गिरता है, तो कम से कम 10 फीसद की गिरावट आएगी। अभी हमने निफ्टी को 14,800 से 13634 पर आते देखा है, जो 7.83 फीसद है और इतिहास बताता है कि गिरावट की तीसरी श्रेणी 10 से 11 फीसद के लिए है। इसलिए अगर हम 11 फीसद लेते हैं, तो 13,300 एक मजबूत आधार बनना चाहिए। यह भी नहीं है कि सभी शेयर गिर रहे हैं। निफ्टी के 14,600 के स्तर पर BPCL 380 पर था और अब जब निफ्टी 13,600 पर है, तो यह 386 पर ट्रेड कर रहा है।

इस गिरावट में मुख्य योगदान आरआईएल, भारती, मारुति, इंफोसिस, टीसीएस, टाटा मोटर्स, टिस्को, एचडीएफसी, एचडीएफसी बैंक और डॉ रेड्डी का है। ये शेयर भारी वजन के होते हैं और इनके ऊपर-नीचे जाने से सूचकांक नियंत्रित होते हैं। सूचकांकों का प्रबंधन अटकलबाजी की किताबों से बाहर है और इसके खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की जा सकती है, भले ही वे 50% बढ़ें या गिरें। वहीं, इस समय मिड कैप और स्मॉल कैप बिल्कुल नहीं गिरे। इसलिए यह गिरावट अच्छी थी और इसे बाजार में अगली उछाल के लिए स्वस्थ माना जाना चाहिए। हम अभी भी बुल रन में हैं और निफ्टी पर अगला लक्ष्य 16,600 से 16,700 है। इसलिए आपको हर गिरावट में वैल्यू स्टॉक्स लेने की कोशिश करनी चाहिए। जुआरी (FएंडO ट्रेडर्स) के पास जुआ खेलने के अलावा और कोई रास्ता नहीं है और वे गिरावट या तेजी दोनों तरफ से खेलते हैं। इसलिए आगे बढ़ते हुए आपको यह पता होना चाहिए कि आपको बजट को किस स्थिति में अच्छा और किस स्थिति में बुरा कहना चाहिए ..?

निश्चित रूप से कुछ कर रियायतें छोटे करदाताओं के लिए आ सकती हैं। इसे लेकर बहुत सारे सवाल उठाए गए हैं कि मैडम एक शानदार बजट के लिए धन कहां से लाएंगी। इसकी हमने पहले चर्चा की है, इसलिए हम इसमें नहीं जाएंगे। FPI के दृष्टिकोण से हमारे लिए क्या मायने रखता है, ये बजट के विषयों के अलावा दो मुद्दे हैं। इससे पहले कि हम इन 2 घटकों पर चर्चा करें, आइए जानते हैं कि इसके पीछे अन्य संभावनाएं और तर्क क्या हैं।

सरकार निजी कंपनियों द्वारा ली जाने वाली पीएसयू कंपनियों को 5 से 7 साल का टैक्स ब्रेक देने पर विचार कर सकती है। यह कंपनियों के मौजूदा बाजार कैप के 100% प्रीमियम की लागत पर होना चाहिए। उदाहरण के लिए BPCL cmc 84,000 करोड़ रुपये है। सरकार पहले से ऑन रिकॉर्ड कह चुकी है कि वे 1.8 लाख करोड़ रुपये का मूल्यांकन चाहती है। गुरुवार को यह नया था कि सरकार अब इसे बढ़ाकर 2 लाख करोड़ रुपये करना चाहती है, ताकि उसे बीपीसीएल में अपनी 53 फीसद हिस्सेदारी के लिए 1.06 लाख करोड़ रुपये मिल सकें। अब यदि टैक्स ब्रेक दिया जाता है, तो कंपनी 5 साल में 135 फीसद की बचत कर सकती है, इसलिए वे 100% प्रीमियम दे सकती हैं। अगर ऐसा होता है तो सभी पीएसयू छह महीने में दोगुने हो जाएंगे, क्योंकि वे सबसे भारी ओवरसोल्ड और अंडरपरफॉर्मिंग माने जाते हैं, क्योंकि एफपीआई सरकार की अक्षमता पर विश्वास करते हैं। तर्क यह है कि सरकार 20 लाख करोड़ रुपये जुटाने के लक्ष्य के साथ पीएसयू को अच्छी कीमत पर बेच सकती है।

दूसरी बात यह है कि सभी बुरे ऋणों को तत्काल प्रभाव से खराब ऋण बैंक में स्थानांतरित करने के लिए मार्गदर्शन की स्थापना की संभावना हो सकती है। यह शायद पीएसयू की बुक्स को कोविड बेड लोन्स से बचाने के लिए हो सकता है, जो अगली कुछ तिमाहियों में वास्तविकता हो सकती है। यदि ऐसा होता है तो सभी PSB दोड़ेंगे। इनके अलावा हम कृषि, रक्षा, पानी और इंफ्रा से संबंधित प्रावधानों की बात नहीं कर रहे हैं, जो बजट में होंगे। अब 2 चीजें, जो हम रडार पर रखना चाहते हैं, वह है राजकोषीय घाटा और बाजार उधार।

वित्त वर्ष 2021 के लिए राजकोषीय घाटा 7.7 फीसद (सर्वेक्षण के अनुसार) रहने की उम्मीद है, जबकि बाजार उधार 11 लाख करोड़ रुपये (CARE की रिपोर्ट के अनुसार) है। अब ये बाजार की उम्मीदों के रूप में काम करेंगे। इसलिए अगर राजकोषीय घाटा 7 फीसद से नीचे है, तो यह बहुत बड़ी सकारात्मक बात होगी। कोविड से पहले इसे 3.8 फीसद पर प्रोजेक्ट किया गया था। वहीं, बाजार उधार अगर 8 लाख करोड़ रुपये से कम होती है, तो यह बड़े पैमाने पर सकारात्मक होगा। बजट को सकारात्मक बनाने के लिए वित्त वर्ष 2022 के लिए राजकोषीय घाटा 4 फीसद या 3.8 फीसद से कम होना चाहिए और बाजार उधार 5 लाख करोड़ रुपये से नीचे होनी चाहिए। यह कैसे होगा, हम पहले की रिपोर्टों में चर्चा कर चुके हैं।

इसलिए अगर ये 2 उम्मीदें अच्छी तरह से पूरी होती हैं, तो बाजार 28 दिनों से भी कम समय में 14,800 की ओर जाएगा और फिर आगे समय के साथ 16,600 से 16,700 हो जाएगा। अगर ऐसा नहीं होता है, तो निफ्टी को 13,300 पर अच्छा समर्थन मिलेगा। अंत में हम यह आशा करते हैं कि एफपीआई भारत में रुकने के लिए आए हैं और अगले 2 दशक तक भारत से बाहर नहीं निकलेंगे। वे कभी भी भारतीय बाजारों से पैसा नहीं निकालेंगे। भारत में ऑप्शंस से कमाई दुनिया में सबसे ज्यादा हैं और किसी भी कारोबार से बड़ी है, इसलिए वे यहां रहेंगे।

(लेखक सीएनआई रिसर्च के सीएमडी हैं। प्रकाशित विचार उनके निजी हैं।)

Edited By: Pawan Jayaswal