नई दिल्‍ली, विवेक जैन। हम सभी लोग अपने और अपने परिवार के लिए कई सपने देखते हैं। इन सपनों को सच बनाने के लिए कड़ी मेहनत करते हैं ताकि अपने परिवार को एक बेहतर भविष्य दे सकें। अपने सपने पूरे करने के लिए सबसे ज़रूरी चीज़ है कि पहले से इसके लिए तैयार करना। लेकिन लोगों के लिए, खासकर वेतनभोगी वर्ग को रिटायरमेंट के बाद पेंशन की गारंटी देने और अधिकतम रिटर्न देने वाला कोई अच्छा प्रोडक्ट नज़र नहीं आता। यही उनकी सबसे बड़ी चिंता होती है। 

हमारे देश में नागरिकों के लिए सामाजिक सुरक्षा कवर अधिक मजबूत नहीं है, इसलिए विशेषज्ञ यही सलाह देते हैं कि करियर शुरु होने के कुछ ही वर्षों बाद रिटायरमेंट की प्लानिंग शुरु कर देनी चाहिए। लेकिन अक्सर ऐसा ही होता है कि जब तक लोगों को रिटायरमेंट प्लानिंग का महत्व समझ में आता है, तब तक उनका करियर अंतिम पड़ाव में पहुंच चुका होता है। इसलिए, आपको चाहिए एक ऐसा व्यापक समाधान जो आपके सपनों को पूरा करने में मदद करे और आपकी ज़रूरतों के अनुकूल रहकर आपको मन की शांति प्रदान कर सके। 

सही निवेश विकल्प की तलाश

निवेश की शुरुआत करने के लिए कई विकल्प मौजूद हैं। लेकिन यह विकल्प ज़रूरतमंद लोगों तक उपलब्ध कराना एक चुनौती बनी हुई है, खासकर समाज के पिछड़े तबके के लोगों तक यह विकल्प नहीं पहुंचज पाते। चूंकि प्रत्येक निवेशक की आर्थिक स्थित अलग होती है, इसलिए उनके जीवन लक्ष्य भी अलग होते हैं। कम उम्र में निवेश शुरु करने वाले लोगों के लिए एक समान रणनीति उपयुक्त नहीं हो सकती। 

विशेषज्ञ यही सलाह देते हैं कि पहले अपने निजी लक्ष्यों को समझें और उसके बाद पूरी जानकारी जुटाकर अपना निवेश मार्ग चुनें। छोटी अवधि में बड़े रिटर्न के पीछे भागने से अच्छा यही होगा कि अपने निवेश के लिए लंबी अवधि का नज़रिया चुनें। जीवन के अंतिम पड़ाव में अच्छी नियमित आमदनी सुनिश्चित करने के लिए आपको एक बड़ी रिटायरमेंट पूंजी की ज़रूरत होगी। लेकिन यह पूंजी नौकरी के अंतिम कुछ वर्षों में जुटा पाना मुश्किल काम हो सकता है। ऐसे में बुढापे के दिनों में निराशा से बचने के लिए आपको लंबी अवधि के लिए छोटी राशि के नियमित निवेश का महत्व समझना जरूरी है। 

ऐसे प्रोडक्ट्स में निवेश करें जो पूंजी की गारंटी दें

एक आम आदमी ना केवल सुकून भरा रिटायरमेंट जीवन का आनंद लेना चाहता है, बल्कि यह भी सुनिश्चित करना चाहेगा कि उनकी गैर-मौजूदगी में उनका परिवार सुरक्षित रहे। आम लोगों की इसी जरूरत को ध्यान में रखते हुए कुछ प्रमुख प्राइवेट इंश्योरेंस कंपनियों ने हाल ही में ऐसे इंश्योरेंस प्लान लॉन्च किये हैं जो आर्थिक सुरक्षा देने के साथ ही कई सारे निवेश विकल्प भी पेश करते हैं। बाजार में कैपिटल गारंटी सॉल्यूशन प्रोडक्ट्स के नए रिटायरमेंट वेरिएंट पेश किये गये हैं। यह प्रोडक्ट्स ऐसे ग्राहकों पर ध्यान देते हैं जिन्हें बाज़ार में गिरावट होने पर अपनी पूंजी की चिंता होती है। इंश्योरेंस कंपनियों के यह प्रोडक्ट्स सुविधाजनक, पारदर्शी और ऑनलाइन खरीदने पर बेहद किफायती भी होते हैं। यह नए प्रोडक्ट्स भारत में लाइफ इंश्योरेंस एवं सेविंग्स प्लान खरीदने की प्रक्रिया को पूरी तरह से बदल देंगे।  

यह प्लान कैसे काम करता है?

बाजार में गिरावट के वक्त निवेश करना समझदारी वाला कदम हो सकता है क्योंकि इसके बाद जब बाजार में तेजी आएगी तो आपको अच्छे रिटर्न मिल सकते हैं। मौजूदा बाजार परिस्थितियों में निवेश के लिए उपलब्ध सबसे अच्छे विकल्पों में से एक है रिटायरमेंट आधारित कैपिटल गारंटी सॉल्यूशन प्लान – जो यूलिप और गारंटीड रिटर्न प्रोडक्ट्स का मिश्रण है। ऐसे प्लान के अंतर्गत, पॉलिसी नियम एवं शर्तों के अनुसार, पॉलिसी अवधि के दौरान आप जो भी प्रीमियम चुकाते हैं उनकी 100 प्रतिशत गारंटी होती है। 

इसका मतलब यह हुआ कि बाजार में कितनी भी गिरावट क्यों ना हो जाए, लेकिन आपके द्वारा चुकाया गया प्रीमियम 100 प्रतिशत सुरक्षित रहेगा। इसके अलावा, आपको बाजार में तेजी के दौरान रिटर्न भी मिलते हैं जबकि आपकी पूंजी भी पूरी तरह से सुरक्षित रहती है। बाजार में इस वक्त मौजूद प्लान्स में आपके द्वारा निवेश की गई 30 प्रतिशत राशि गारंटीड रिटर्न प्रोडक्ट्स में लगाई जाती है और 70 प्रतिशत यूलिप में जाती है। 

ऐसे प्लान से होने वाला लाभ आपकी रिटायरमेंट उम्र के लिए शेष बचे वर्षों पर निर्भर करता है। रिटायरमेंट के लिए जितने अधिक वर्ष बचे होंगे, आपकी आमदनी भी उतनी अधिक होगी क्योंकि यूलिप में अधिक राशि का निवेश होगा। लेकिन अगर मान लें कि आप जल्दी रिटायर होना चाहते हैं, जैसे कि 40-45 वर्ष की उम्र में, तो आपके निवेश का अधिकांश हिस्सा गारंटीड रिटर्न प्रोडक्ट्स में जाएगा और आमदनी भी कम होगी। 

सरल शब्दों में कहें तो रिटायरमेंट उम्र जितनी देर से शुरु होगी, आपकी पेंशन राशि उतनी ही बड़ी होगी। यही कारण है कि आपकी निवेश राशि पर मिलने वाला ब्याज इस वक्त बाजार में उपलब्ध अन्य रिटायरमेंट प्रोडक्ट्स की तुलना में अधिक होगा। आपको बता दें कि रिटायरमेंट कैपिटल गारंटी प्रोडक्ट्स में निवेश करते वक्त रिटायरमेंट की उम्र 60 वर्ष चुनना उचित होगा। 

उदाहरण के लिए, एचडीएफसी लाइफ के रिटायरमेंट कैपिटल गारंटी सॉल्यूशन प्लान में अगर एक 32 वर्षीय व्यक्ति, 25 वर्षों की पॉलिसी में 10 वर्षों की भुगतान अवधि के लिए 6000 रुपये हर महीने निवेश करता है, तो उसे पॉलिसी की मैच्योरिटी यानि 60 वर्ष की उम्र में 7.2 रुपये लाख की एकमुश्त राशि के साथ 70,600 रुपये की मासिक पेंशन प्राप्त होगी। इसके लिए यूलिप में किये गये निवेश में 7 वर्षों तक 13.7% की दर से वृद्धि होनी चाहिए। 

प्रमुख फीचर

इस प्रोडक्ट में निवेश की न्यूनतम राशि 2500 रुपये प्रति माह है, यानि 30,000 रुपये प्रति वर्ष। इसकी भुगतान अवधि 10 वर्ष है। ऐसे प्लान में निवेश करने पर पॉलिसी के लिए चुकाए गए प्रीमियम पर आपको सेक्शन 80(सी) के अंतर्गत टैक्स लाभ तथा सेक्शन 10(10डी) के तहत निवेश के परिपक्‍वता पर निकाली गई गई राशि पर टैक्स लाभ मिलेगा। इसके साथ ही, इस प्लान में आपको वार्षिक प्रीमियम राशि के 10 गुना बराबर का लाइफ कवर भी दिया जाएगा। 

(लेखक पॉलिसीबाजार डॉट कॉम में इन्‍वेस्‍टमेंट के बिजनेस यूनिट हेड हैं। प्रकाशित विचार उनके निजी हैं। निवेश से पहले अपने निवेश सलाहकार से जरूर संपर्क करें।)

इंडियन टी20 लीग

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस