अनिक जैन, नई दिल्‍ली। बीमा खरीदना निस्संदेह ही जीवन के सबसे महत्वपूर्ण निर्णयों में से एक है। हममें से अधिकांश लोग अक्सर तुक्का या किसी के कहने पर बीमा लेते हैं। तुक्‍का तो तुक्‍का ही है और अगर सलाह गलत मिले तो फिर नुकसान हमें ही होगी। आपके बीमा एजेंट या सलाहकार आपको सही सूचना देने और मार्गदर्शन के प्राथमिक स्रोत होते हैं। जहां आपके एजेंट दिल से आपका हित चाहेंगे, वहीं धोखे से गलत बीमा समाधान बेचने के भी कई दुर्भाग्यपूर्ण उदाहरण सामने आ चुके हैं।   

इसलिए, किसी बीमा एजेंट या प्‍वाइंट ऑफ सेल पर्सन (पीओएसपी) से पॉलिसी खरीदने से पहले, नीचे दिये प्रश्न एक बार खुद से पूछ कर देख लें, ताकि आप स्पष्ट रूप से समझ सकें कि बीमा पॉलिसी से आपको क्या उम्‍मीदें हैं।

  • मेरी मौजूदा व भावी आवश्यकताएं क्या हैं?
  • विश्वसनीय बीमा सलाहकार की उचित अनुशंसा कौन कर सकता है?
  • मेरी प्रीमियम राशि की सीमा क्या है?

एक एजेंट के जरिये बीमा पॉलिसी लेने से पहले इन सवालों के जवाब देना एक टोही का काम करता है। सही बीमा उत्पाद की आपकी खोज में आप विभिन्न बीमा कंपनियों और सलाहकारों के साथ बैठक कर सकते हैं। हम आपको बताएंगे कि आप कैसे समझें कि कोई एजेंट आपको सही सलाह दे रहा है या नहीं।

क्या उन्होंने अपना रिसर्च किया है

हर व्यक्ति की बीमा ज़रूरतें अलग-अलग होती हैं। संभावित ग्राहकों को बीमा पॉलिसी देने से पहले एक प्रतिबद्ध एजेंट अपना होमवर्क करेगा। ऐसे एजेंटों की तलाश करें जो आपकी श्रेणी के भीतर विभिन्न उत्पादों के बारे में जानकार हो और उनसे कई सवाल पूछें, जैसे आप आराम से अपनी बीमा प्रोफाइल उन्‍हें सौंप सकते हैं। सही सलाहकार आपकी वित्तीय जरूरतों, आपकी प्रीमियम भुगतान करने की क्षमता को समझेगा। इसके बाद वह आपको ऐसा बीमा प्रोडक्‍ट सुझाएगा जो आपके मानदंडों के अनुरूप होगा। 

अच्‍छे बीमा एजेंट आपकी बातों पर करते हैं गौर

एक बीमा सलाहकार ऐसा होना चाहिए जो किसी अपने लाभ के लिए बीमा प्रोडक्‍ट बेचने के बजाय आपकी जरूरतों को पूरा करे, जो उन्हें लगता है कि आपके लिए सबसे अच्छा है। एक अच्छा बीमा सलाहकार अपने संबंधों को सार्थक बनाने के लिए अपने ग्राहकों को हमेशा बेहतर सलाह देता है। इससे दोनों पक्षों को लाभ होता है क्योंकि आप अपनी भविष्य की बीमा जरूरतों के लिए उससे संपर्क करते हैं और वे आपके बीमा संबंधी प्रश्नों के लिए सही सलाह और समाधान प्रदान करते हैं।

वे किसी एक ब्रांड की सलाह नहीं देते हैं

बीमा नियामक द्वारा पीओएसपी मॉडल की शुरुआत ने भारत में बीमा बिक्री परिदृश्य को बदल दिया है। पहले एक एजेंट एकल बीमा प्रदाता से लाइफ या जनरल इंश्‍योरेंस प्रोडक्‍ट्स बेच सकता था, लेकिन अब पीओएसपी बीमा कंपनियों के सभी बीमा उत्पाद बेच सकते हैं। वे विभिन्न बीमा कंपनियों से कोटेशन ले सकते हैं और ग्राहकों को उनकी आवश्यकताओं के अनुसार सबसे बेहतर समाधान उपलब्‍ध करा सकते हैं। यदि कोई एजेंट बीमा उत्पादों या बीमा कंपनियों के विकल्प की पेशकश नहीं कर रहा है, तो सबसे अधिक संभावना इस बात की है कि उसे उस खास प्रोडक्‍ट पर मिलने वाला कमीशन दूसरों प्रोडक्‍ट्स की तुलना में अधिक है। 

वे ईमानदार होते हैं

एक लंबी अवधि की नीति के लिए एक एजेंट की सलाह मानने से पहले, उसके पिछले कार्य अनुभव के बारे में सवाल पूछें जैसे उसने किन कंपनियों के साथ काम किया है और कंपनी छोड़ने की वजह क्‍या रही। इससे आपको इस बात का अंदाजा हो जाएगा कि एजेंट ने प्रत्येक बीमा प्रदाता के साथ कितनी अवधि बिताई है। यदि एजेंट बार-बार कंपनियों को बदल रहा है, तो आप उससे इसके बारे में पूछ सकते हैं। 

व्यक्तिगत वित्तीय आवश्यकताओं के लिए एक कर्मचारी को काम पर रखने से सही बीमा एजेंट चुनने की प्रक्रिया बहुत अलग नहीं है।

(लेखक सिम्बो इंडिया इंश्योरेंस ब्रोकिंग लिमिटेड के मुख्य कार्यकारी अधिकारी हैं। प्रकाशित विचार उनके निजी हैं।)

Posted By: Manish Mishra

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस